Masik Durga Ashtami Vrat Vidhi: हर महीने की शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को दुर्गाष्टमी मनाई जाती है। इस दिन मां दुर्गा पूजा की जाती है। साथ ही व्रत भी किया जाता है। दुर्गाष्टमी पर मां के भक्त पूरे दिन व्रत करते हैं। ऐसा कहा जाता है कि जो लोग अष्टमी तिथि को मां दुर्गा की पूजा करते हैं और दुर्गा मंत्रों का पाठ करते हैं उन्हें स्वास्थ्य, धन और समृद्धि प्राप्त होती है। इस दिन दुर्गा मां की आरती और भजन भी जरूर गाने चाहिए। मासिक दुर्गाष्टमी हर माह आती है लेकिन मुख्य दुर्गाष्टमी अश्विन माह में नौ दिन के शारदीय नवरात्रि उत्सव के दौरान आती है। इसे महाष्टमी भी कहा जाता है। तो आइए जानते हैं मासिक दुर्गाष्टमी की पूजा विधि।

मासिक दुर्गाष्टमी व्रत और पूजा विधि:

इस दिन सुबह जल्दी उठना चाहिए। सभी नित्यकर्मो से निवृत्त होकर स्नानादि कर लें। इसके बाद स्वच्छ वस्त्र पहन लें। फिर पूजास्थल पर गंगाजल डालकर उसे शुद्ध कर लें। इसके बाद लकड़ी का पाट रखें। इस पर लाल वस्त्र बिछाएं और उस पर मां दुर्गा की प्रतिमा या चित्र स्थापित करें। फिर मां दुर्गा को अक्षत, सिन्दूर और लाल पुष्प अर्पित करें। मां को फल और मिठाई चढ़ाएंय़ इसके बाद धूप और दीपक जलाएं। मां की आरती करें और दुर्गा मां की चालीसा का पाठ भी करें। मां की आरती अवश्य करें।

मासिक दुर्गाष्टमी की तिथि और मुहूर्त:

मासिक दुर्गाष्टमी जनवरी 2021 तिथि: गुरुवार, 21 जनवरी

पौष, शुक्ल अष्टमी आरंभ- 20 जनवरी, बुधवार, दोपहर 01 बजकर 14 मिनट पर

पौष, शुक्ल अष्टमी समाप्त- 21 जनवरी, गुरुवार, दोपहर 03 बजकर 50 मिनट पर

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी। ' 

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप