Guru Dosh: गुरुवार का दिन भगवान श्रीहरि विष्णु को समर्पित है। इस दिन विष्णु जी और गुरु ग्रह की पूजा-उपासना की जाती है। ऐसी मान्यता है कि गुरु मजबूत रहने से जातक को किस्मत का साथ मिलता है। वहीं, कमजोर रहने से सम परिस्थिति में भी हानि होती है। अतः ज्योतिष हमेशा गुरु मजबूत करने की सलाह देते हैं। लड़कियों के शादी के कारक गुरु माने जाते हैं। गुरु मजबूत रहने से लड़कियों की शादी शीघ्र हो जाती है। वहीं, कमजोर रहने पर शादी में देर होती है। इसके लिए अविवाहित लड़कियों को गुरुवार का व्रत करना चाहिए। साथ ही हर गुरुवार को जल में हल्दी मिलाकर केले के पौधे में अर्घ्य देना चाहिए। शास्त्रों में निहित है कि केले के पौधे में भगवान श्रीहरि विष्णु जी वास करते हैं। अगर आपकी कुंडली में गुरु कमजोर स्थिति में है, तो गुरु दोष दूर करने के लिए गुरुवार के दिन आसान उपाय जरूर करें-

-गुरु दोष को दूर करने के लिए गुरुवार के दिन नहाने वाले पानी में एक चुटकी हल्दी मिलाकर स्नान करें। साथ ही ‘ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय नम:’ मंत्र का जाप करें। तत्पश्चात, आमचन कर पीले वस्त्र धारण करें और माथे पर केसर से तिलक लगाएं। अब सर्वप्रथम भगवान भास्कर को जल का अर्घ्य दें। फिर केले के पौधे में हल्दी मिला जल का अर्घ्य दें। तत्पश्चात, भगवान श्रीहरि विष्णु जी की पूजा फल, फूल, धूप, दीप आदि अर्पित कर पूजा करें। अंत में आरती अर्चना कर अपनी कामना प्रकट करें।

-गुरुवार के दिन गायत्री मंत्र का जाप करें। इससे गुरु दोष का प्रभाव कम होता है। ज्योतिषों की मानें तो गायत्री मंत्र के जाप करने से गुरु और सूर्य मजबूत होता है। गुरु और सूर्य के मजबूत रहने से करियर और कारोबार की सभी समस्याओं का निवारण होता है।

-गुरु मजबूत करने के लिए ‘ॐ बृ बृहस्पते नमः’ मंत्र का जाप गुरुवार के दिन अवश्य करें। इससे आर्थिक स्थिति मजूबत होती है।

-गुरु को मजबूत करने के लिए गुरुवार के दिन पीले चीजों का दान करें। जथा शक्ति तथा भक्ति के भाव से जरूरतमंदों को अन्न और अर्थ का दान करें।

-ज्योतिषों की मानें तो गुरुवार के दिन साबुन-शैंपू का प्रयोग बिल्कुल न करें। इससे गुरु कमजोर होता है। साथ ही न बाल कटवाएं और न ही नाख़ून काटें।

-गुरु कमजोर रहने पर हीरा धारण करना शुभ माना जाता है। इसके लिए एक रत्ती हीरा धारण करें। इससे गुरु मजबूत होता है। साथ ही गुरु मंत्र का जाप करें।

डिस्क्लेमर

''इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना में निहित सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्म ग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारी आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना के तहत ही लें। इसके अतिरिक्त इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।''

Edited By: Umanath Singh