Aarti of Ganpati Bappa: अनंत चतुर्दशी, गणेशोत्सव का अंतिम दिन होता है। विधि के अनुसार इस दिन गणपति बप्पा की प्रतिमाओं का विसर्जन किया जाता है। गणेश चतुर्थी के दिन से शुरू हुए गणेश उत्सव का समापन अनंत चतुर्दशी के पूजन के साथ होता है। इस साल अनंत चतुर्दशी का पर्व 19 सितंबर, दिन रविवार को पड़ रहा है। इस दिन भक्त विधि पूर्वक भगवान गणेश का पूजन कर उनकी प्रतिमाओं का विसर्जन करते हैं। मान्यता है कि गणपति बप्पा दस दिनों तक हमारे घरों में रह कर उन्हें सुख और सौभाग्य से भर देते हैं और हमारे सारे दुख और विघ्न अपने साथ ले जाते हैं। अनंत चतुर्दशी के दिन प्रतिमा विसर्जन के पहले कपूर जला कर भगवान गणेश की ये आरती जरूर करनी चाहिए। गणपति बप्पा मोरया के जयघोष के बीच अगले बरस फिर आने की कामना के साथ गणपति का विसर्जन करें।

गणपति बप्पा की आरती

सुखकर्ता दुःखहर्ता वार्ता विघ्नाची

नुरवी पुरवी प्रेम कृपा जयाची

सर्वांगी सुंदर उटी शेंदुराची

कंठी झलके माल मुक्ता फलांची |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

रत्नखचित फरा तुज गौरीकुमरा

चंदनाची उटी कुमकुम केशरा

हीरे जड़ित मुकुट शोभतो बरा

रुणझुणती नूपुरे चरणी घागरिया |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

लम्बोदर पीताम्बर फणिवर बंधना

सरल सोंड वक्र तुंड त्रिनयना

दास रामाचा वाट पाहे सदना

संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुर वर वंदना |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

जयदेव जयदेव जय मंगलमूर्ति

दर्शन मात्रे मन कामना पूर्ती |

जयदेव जयदेव जयदेव जयदेव

डिसक्लेमर

'इस लेख में निहित किसी भी जानकारी/सामग्री/गणना की सटीकता या विश्वसनीयता की गारंटी नहीं है। विभिन्न माध्यमों/ज्योतिषियों/पंचांग/प्रवचनों/मान्यताओं/धर्मग्रंथों से संग्रहित कर ये जानकारियां आप तक पहुंचाई गई हैं। हमारा उद्देश्य महज सूचना पहुंचाना है, इसके उपयोगकर्ता इसे महज सूचना समझकर ही लें। इसके अतिरिक्त, इसके किसी भी उपयोग की जिम्मेदारी स्वयं उपयोगकर्ता की ही रहेगी।'

 

Edited By: Jeetesh Kumar