जागरण संवाददाता, जयपुर। Kota News: राजस्थान के कोटा (Kota) जिला मुख्यालय पर स्थित सरकारी अस्पताल में वीरवार को चिकित्सकों ने काम का बहिष्कार कर धरना दिया। हालांकि प्रशासन की काफी कोशिश के बाद चिकित्सक काम करने को तैयार हुए। बुधवार देर रात एक मरीज की रिश्तेदार ने कुर्सी उठाकर रेजिडेंट डाक्टर पर मार दी। इस कारण हंगामा हो गया। मरीज के स्वजनों ने चिकित्सकों और नर्सिंगकर्मियों के साथ मारपीट की। घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हाे गई।

डेंगू से महिला की मौत

26 वर्षीय महिला मरीज शाहिस्ता जुबेर को बुधवार शाम को आपातकालीन वार्ड में भर्ती करवाया गया था। वह डेंगू से पीड़ित थी। उसकी प्लेटलेट्स 64 हजार थी। रक्तचाप भी कम था। देर रात महिला की तबीयत बिगड़ने लगी तो उसके स्वजनों ने हंगामा कर दिया। मरीज की एक महिला स्वजन ने रेजिडेंट चिकित्सक बृजलाल बैरवा पर कुर्सी से हमला कर दिया।

मारपीट करने वालों की गिरफ्तारी की मांग

सूचना मिलने पर पुलिस मौके पर पहुंची। देर रात डेढ़ बजे महिला की मौत हो गई। चिकित्साकर्मियों ने बताया कि मृतक मरीज के स्वजनों ने अन्य मरीजों के स्वजनों के साथ भी अभद्रता की। रेजिडेंट चिकित्सक एसोशिएशन कोटा के अध्यक्ष डाक्टर जितेंद्र यादव ने कहा कि मरीज के परिजनों को समझा दिया गया था। इसके बाद भी 10-15 स्वजन पलट कर आए और चिकित्सकों से मारपीट करने लगे। उन्होंने मारपीट करने वालों को गिरफ्तार करने की मांग की है।

इनकी हुई गिरफ्तारी

जयपुर में बुधवार को 26 वर्षीय महिला अंजलि को गोली मारने के मामले में उसके पति लतीफ के बड़े भाई सहित तीन लोगों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। शहर के मुरलीपुरा इलाके में अंजलि की पीठ पर बाइक सवार दो युवकों ने गोली मारी थी। गोली लगने से वह सड़क पर गिर गई थी, उसका अब सवाई मान सिंह अस्पताल में उपचार चल रहा है। पुलिस की जांच में सामने आया कि लतीफ के बड़े भाई अब्दुल ने दो लाख की सुपारी देकर कलीम और राजू से हमला करवाया था। वह उसकी हत्या करवाना चाहता था।

यह भी पढ़ेंः अशोक गहलोत बोले, सचिन पायलट को किसी भी हालत में सीएम नहीं बनने देंगे

Edited By: Sachin Kumar Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट