जयपुर, जागरण संवाददाता। राजस्थान के सीकर जिले में एक युवती ने पुलिस हेड कांस्टेबल के खिलाफ थाने में दुष्कर्म करने का आरोप लगाया है। युवती का कहना है कि हेड कांस्टेबल ने उसके प्रेमी को थाने के बाहर निकालकर इस घटना को अंजाम दिया। दरअसल, सीकर की एक दलित युवती अपने प्रेमी के साथ घर से दूर चली गई थी। इस पर युवती के परिजनों ने सिंगरावट पुलिस थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई। पुलिस की जांच में पता चला कि युवती अपने प्रेमी के साथ श्रीगंगानगर में रह रही है। इसके बाद उन्हें वापस सीकर लाने के लिए हेड कांस्टेबल सुभाष कुमार को भेजा गया है। दो अन्य पुलिसकर्मी भी उनके साथ थे। युवती का आरोप है कि सुभाष ने प्रेमी को कार के आगे की सीट पर बैठा दिया और खुद युवती के साथ पीछे वाली सीट पर बैठ गया। चालक कार चला रहा था।

रास्ते में सुभाष ने युवती से छेड़छाड़ करना शुरू कर दी। युवती ने विरोध किया तो सुभाष ने उसके साथ मारपीट की। देर रात जब सुभाष और दो अन्य पुलिसकर्मी युवती को लेकर थाने पहुंचे तो पूछताछ के बहाने प्रेमी को बाहर भेज दिया गया। इस मामले में आरोप है कि 29 अगस्त को सुबह चार बजे सुभाष ने युवती का बयान दर्ज करने के लिए थाने के एक कमरे में बुलाया। बयान लेने के बहाने युवती से दुष्कर्म किया गया। दुष्कर्म करने के बाद सुभाष ने प्रेमी युगल को बिना किसी कार्रवाई के घर भेज दिया गया। दो दिन बाद 31 अगस्त को युवती अपने परिजनों के पास पहुंची और पूरा घटनाक्रम बताया। युवती को लेकर परिजन थाने पहुंचे तो पुलिकर्मियों ने मामले को रफा-दफा कर दिया। युवती के परिजनों ने जब मामला दर्ज करने को लेकर पुलिस पर दबाव बढ़ने लगा तो दो अगस्त को अधिकारिक तौर पर रिपोर्ट दर्ज की गई। इस मामले की जांच पुलिस उप अधीक्षक राजेश आर्य कर रहे हैं।

Edited By: Sachin Kumar Mishra