जागरण संवाददाता, पटियाला। शाही शहर पटियाला की मन्नत कश्यप (अंडर-19) का न्यूजीलैंड के खिलाफ मुंबई में 27 नवंबर से खेली जाने वाली पांच मैचों की सीरीज के लिए भारतीय टीम में चयन होने से परिवार में खुशी का माहौल है। मन्नत व परिवार को लगातार बधाइयां मिल रही हैं।

बाएं हाथ की स्पिनर और दाएं हाथ की बल्लेबाज मन्नत लड़कों के साथ खेलकर क्रिकेटर बनीं। श्रीलंका के खिलाफ मैच में चार ओवर में 10 रन देकर चार विकेट झटकने वाली मन्नत अब कीवी बल्लेबाज को अपनी फिरकी में फंसाएंगी। आलराउंडर मन्नत का चयन अंडर-19 विश्व कप के लिए भी हुआ है।

बहन नुपूर भी पंजाब से खेल चुकी

मन्नत के पिता संजीव कश्यप बिजनेसमैन और मां लवलीन गृहिणी हैं। गर्ल्स सीनियर सेकेंडरी स्कूल न्यू पावर हाउस कालोनी में 12वीं की छात्रा मन्नत ने बताया कि वह ध्रुव पांडव स्टेडियम में प्रेक्टिस करती हैं। उनकी बहन नुपुर कश्यप भी क्रिकेटर हैं और पंजाब से खेल चुकी हैं। बहन को देखकर ही क्रिकेट के प्रति दिलचस्पी पैदा हुई। वह भारतीय क्रिकेट टीम की कप्तान मोगा की हरमनप्रीत कौर को अपना पसंदीदा खिलाड़ी मानती हैं। मन्नत ने बताया कि उन्होंने ज्यादातर समय लड़कों के खिलाफ खेला है। लड़कों को अपनी फिरकी पर आउट करने से उनका आत्मविश्वास भी बढ़ा।

पिता बोले, बेटी के चयन से सिर गर्व से ऊंचा

पिता संजीव कश्यप ने बताया कि मन्नत जब नौ साल की थी तो क्रिकेट खेलने की बात कही। मन्नत के लिए कोच ढूंढ़ने की बहुत कोशिश की, लेकिन तब कोई भी लड़कियों को क्रिकेट की कोचिंग नहीं देता था। इस पर उन्होंने बेटी को लड़कों के साथ ही कोचिंग दिलाने का फैसला किया। मन्नत लड़कों के साथ मैदान में प्रेक्टिस करने लगी।

बेटी का भारतीय टीम में चयन होने से सिर गर्व से ऊंचा हो गया है। वहीं डिप्टी कमिश्नर साक्षी साहनी ने भारतीय टीम में चुने जाने पर मन्नत को बधाई दी। उन्होंने बताया कि वह पटियाला जिले के लिए बेटी बचाओ और बेटी पढ़ाओ अभियान की रोल माडल भी बनी हैं।

Edited By: Pankaj Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट