जागरण संवाददाता, पटियाला : कोरोना महामारी में फ्रंटलाइन वर्कर के तौर पर काम करने वाले 108 एंबुलेंस कर्मियों को पिछले तीन महीने से वेतन नहीं मिल रहा है। इस कारण शनिवार को उन्होंने रोष प्रदर्शन किया। प्रधान जोगा सिंह संधू ने बताया कि कोरोना मरीजों की संख्या में बढ़ोतरी हो रही है। 108 एंबुलेंस इंप्लाइज एसोसिएशन यूनियन पटियाला जिले के प्रधान जोगा सिंह संधू, मनजीत सिंह, बलजीत सिंह, तजिंदरपाल, मलकीत सिंह, कुलदीप सिंह, गौरव शर्मा, प्रेमपाल, अमरीक सिंह, जसप्रीत सिंह ने बताया कि कोरोना के मरीजों के पास सबसे पहले 108 एंबुलेंस के कर्मचारी पहुंचते हैं परंतु पंजाब सरकार और 108 एंबुलेंस को चलाने वाली कंपनी 108 एंबुलेंस के मुलाजिमों का आर्थिक और मानसिक शोषण कर रही है। इसी के साथ कम वेतन और काम करने वाले कर्मचारियों को तीन महीने से वेतन नहीं दिया गया। सालाना वेतन वृद्धि नहीं दी गई। इसी के साथ वार्षिक छुट्टियां नहीं दी जातीं, कोरोना महामारी में फ्रंटलाइन के तौर पर काम करने का अतिरिक्त भत्ता नहीं दिया जाता, मुलाजिमों को समय पर सुरक्षा किट, एन-95 मास्क, सर्जिकल गलव्स मुहैया नहीं करवाए जा रहे हैं। उन्होंने चेतावनी देते कहा कि जनवरी में बठिडा में कंपनी के उच्चाधिकारी और यूनियन के नेताओं की मीटिग हुई थी जिसमें कंपनी की तरफ से मुलाजिमों की पिछली तनख्वाह 10 जनवरी को देने का वादा किया था, उस वादे को कंपनी ने पूरा नहीं किया गया है, जिस करके 108 एंबुलेंस के मुलाजिमों को अपने घर चलाने बहुत कठिन हो गए हैं। उन्होंने चेतावनी दी है कि यदि कंपनी की तरफ से मुलाजिमों की मांगों न मानी गईं तो वे संघर्ष तेज करेंगे।

Edited By: Jagran