पठानकोट, जेएनएन। Suresh Raina's Relatives Case: क्रिकेटर सुरेश रैना के फूफा के परिवार पर हमला करने वालों का खुलासा हाे गया  है। पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा कि यह हमला एक अंतरराज्‍यीय लुटेरा गिरोह ने किया था। गिरोह के तीन सदस्‍यों को गिरफ्तार कर लिया गया है। दूसरी ओर रैना आज थरियाल गांव में अपने फूफा के घर पहुंचे। रैना ने फूफा के परिवार पर हुए हमले के बारे में जानकारी ली। रैना के साथ उनके अन्‍य परिजन भी थे।

क्रिकेटर सुरेश रैना पठानकोट बुआ और फूफा के घर पहुंचे

बता दें कि 19 अगस्त को लूट और हमले की वारदात में रैना के फूफा अशोक कुमार और फुफेरे कौशल की मौत हो गई थी। उनकी बुआ आशा रानी निजी अस्पताल में कोमा अवस्था हैं। पंजाब के मुख्‍यमंत्री कैप्‍टन अमरिंदर सिंह ने कहा है कि रैना के फूफा के परिवार पर हमले के मामले की गुत्‍थी सुलझा ली गई है। इस घटना का एक अंतरराज्‍यीय लुटेरे गिराेह ने अंजाम दिया था। इसके तीन सदस्‍याें को गिफ्तार किया गया है।

पठानकोट के गांव में फूफा के घर पहुंचे क्रिकेटर सुरेश रैना।

रैना फूफा के छोटे बेटे के साथ मिलकर हालचाल पूछा। इसके साथ ही राज अस्पताल में दाखिल बुआ का कुशलक्षेम भी जानने वह जाएंगे।  मामले में आरोपितों की गिरफ्तारी न होने पर एसएसपी पठानकोट से भी मिल सकते है  रैना के दौरे को लेकर पुलिस ने थरियाल गांव में सुरक्षा के कडे इंतजाम किए हैं। रैना के साथ उनके भाई दिनेश, भाभी और मामी साथ में हैं। रैना ने घर में बुआ के बेटे अपिन कुमार और उनकी सास सत्या देवी के साथ बातचीत की।

फूफा के घर पर घटना के बारे में जानकारी लेते क्रिकेटर सुरेश रैना।

50 मिनट फूफा के घर रूकने के बाद सुरेश रैना बुआ का हाल जानने अस्‍पताल पहुंचे

सुरेश रैना ने घर पर फूफा के बेटे और बेटी काे ढांढस बंधाया। उन्‍होंने दोनों को दिलासा दिया कि इस विकट स्थिति में उनके साथ हैं और जल्द परिवार इस हादसे उबरेगा। क्रिकेटर सुरेश रैना करीब 11 बजे थरियाल पहुंचे और बुआ की बेटी कोमल एवं बेटे अपिन कुमार के साथ बातचीत की। बंद कमरे में परिजनों से घटना की जानकारी ली व हरसभव सहयोग की बात कही। वह करीब 50 मिनट घर में रुके और इसके बाद बुआ का हाल जानने अस्‍पताल पहुंचे। उनके के साथ भाई दिनेश, भाभी और मामी भी थे।

रैना पठानकोट के राज अस्पताल में बुआ आशा देवी का हालचाल जानने पहुंचे और चिकित्सकों से उनकी स्थिति के बारे में बातचीत की। उन्‍होंने डॉक्‍टरों से उपचार में हरसंभव कदम उठाने का आग्रह किया। मीडिया से बातचीत में रैना ने कहा कि वह मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह का आभार जताते हैं। मुख्यमंत्री ने उनके आग्रह पर एसआइटी का गठन किया है और आरोपितों तक पुलिस पहुंची।

पत्रकारों से बातचीत करते क्रिकेटर सुरेश रैना।

रैना ने का कि वह सरकार से अनुरोध करते हैं कि पीड़ित परिवार की मदद करे, जिससे कि वह इस हादसे से उबर सकें। वह और उनके परिजन पूरी तरह से फूफा के परिवार के साथ खड़े हैं। उन्होंने इस मामले में सक्रियता दिखाने क लिए मीडिया का भी आभार जताया।

दूसरी ओर, पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बुधवार को कहा कि क्रिकेटर सुरेश रैना के परिजनों पर हमले और हत्या के मामले को एक अंतर-राज्यीय लुटेरे गिरोह ने अंजाम दिया था। इस मामले का खुलासा गिरोह के तीन सदस्यों की गिरफ्तारी से हुआ है। उन्‍होंने कहा कि इस मामले में 11 अन्य आरोपियों की गिरफ्तारी होनी बाकी है। पंजाब के डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि 19 अगस्त की रात को जिला पठानकोट के पीएस शाहपुरकंडी के थरियाल  गांव में हुए मामले में अन्‍य आरोपिताें को पकड़ने के लिए पुलिस छापे मार रही है।

डीजीपी दिनकर गुप्ता ने कहा कि 19 अगस्त की रात को पठानकोट के थरियाल गांव में लुटेरों ने रैना के फूका अशोक कुमार की हत्या कर दी थी। उनके बेटे कौशल कुमार ने भी 31 अगस्त को दम तोड़ दिया था। अशोक कुमार की पत्‍नी यानी क्रिकेटर सुरेश रैना की बुआ आशा रानी की हालत गंभीर है। दो अन्य घायलों को छुट्टी दे दी गई है। मुख्यमंत्री ने इस मामले में एसआइटी का गठन किया था।

बेटी ने कहा यह मर्डर है, लूटपाट का एंगल भटकाने वाला

दूसरी ओर, क्रिकेटर सुरेश रैना की फूफा की बेटी कोमल और उनके पति ने कहा है यह मर्डर है और इसे लूटपाट का रूप दिया गया है। पुलिस ने मामले में आरोपित को गिरफ्तार किया है, लेकिन उन्हें अंदेशा है कि इस प्रकरण में लूटपाट का रूप भटकाने के लिए दिया गया।  सोची समझी साजिश के तहत परिवार पर हमला हुआ है और परिजनों को मारा गया। उम्मीद है कि पुलिस इस बात की सच्चाई को भी सामने लाएगी।

बता दें कि इस घटना की जांच के लिए आइजी (बॉर्डर रेंज, अमृतसर) के नेतृत्व में विशेष जांच टीम (एसआइटी) का गठन किया गया था। इसमें पठानकोट के एसएसपी, एसपी (इन्वेस्टिगेशन) और डीएसपी (धार कलां) सदस्य है। डीजीपी गुप्‍ता ने बताया कि जांच के दौरान 15 सितंबर को एसआइटी को सूचना मिली कि तीन संदिग्धों को जिन्हें घटना के बाद सुबह के समय पर डिफेंस रोड पर देखा गया था। ये तीनों पठानकोट रेलवे स्टेशन के नज़दीक झुग्गियों में रह रहे हैं। पुलिस ने छापा मारा और इन तीनों को काबू कर लिया।

डीजीपी दिनकर गुप्‍ता के मुताबिक इनकी पहचान सावन ऊर्फ मैचिंग, मोहब्बत और शाहरुख ख़ान के तौर पर हुई है। वे राजस्थान के जि़ला चिवाड़ा और पिलानी झुग्गियों के  मूल निवासी हैं। इनसे सोने की अंगूठी, महिला की एक अंगूठी, महिला की एक सोने की चेन और 1530 रुपये बरामद किए गए। प्राथमिक जांच में खुलासा हुआ कि यह गैंग बाकियों के साथ मिलकर अपनी सरगर्मियां चला रहा था और उत्तर प्रदेश, जम्मू-कश्मीर और पंजाब के अन्य हिस्सों में पहले भी ऐसे कई अपराधों को अंजाम दे चुका है।

यह भी पढ़ें: लुधियाना में कुत्तों के लिए बना उत्तर भारत का पहला ब्लड बैंक, प्‍लाज्‍मा भी चढ़ाया जाता है

 

यह भी पढ़ें: 21 सितंबर से 40 और स्पेशल ट्रेनें उतरेंगी पटरी पर, रिजर्वेशन के लिए मिलेगा दस दिन का समय


यह भी पढ़ें: नौकरी ढूंढ रहे चंडीगढ़ के युवक से बोली युवती- मैं तुमसे संबंध बनाना चाहती हूं, ...और फिर ऐसे गंवा दिए लाखों

 

यह भी पढ़ें: हरियाणा IAS अशोक खेमका का एक और ट्वीट, पूछा-आढ़तियों को दो हजार करोड़ के कमीशन क्‍यों


यह भी पढ़ें: फर्जी लेटर से लाखों रेलकर्मियों में जगी बोनस की उम्मीद, बाद में रेलवे ने बताई असलियत

 

यह भी पढ़ें: मिलिए हरियाणा के 'चाइल्‍ड स्पाइडरमैन' से, दीवार पर चढ़ जाता है तीन साल का विराट

 


 

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Sunil Kumar Jha

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!