जागरण संवाददाता, लुधियाना। Weather Forecast Ludhiana: वेस्टर्न डिस्टर्बेंस के एक्टिव होते ही शहर में मौसम का मिजाज पूरी तरह से बदल गया। बुधवार को सूर्य देव गायब रहे और बादलों ने शहर को अपने आगोश में लिए रखा। रही सही कसर ठंडी हवाओं ने पूरी कर दी। हालांकि दिन में दो-तीन बार सूर्य देव ने कुछ पल के लिए दर्शन दिए, लेकिन बादलों ने फिर से उन्हें अपनी गिरफ्त में ले लिया, जिसके चलते लोगों को सिहरन महसूस हो रही थी। लोगों को जैकेट, ऊनी कपड़े और मफलर तक पहनने पड़ गए। वहीं स्माग की वजह से विजिबिल्टी काफी कम रही। जबकि मेन हाइवे और नहरी इलाकों में सुबह के समय धुंध दिखी। जिसकी वजह से राहगीरों को परेशानी आई।

पंजाब कृषि विश्वविद्यालय (पीएयू) के मौसम विभाग के अनुसार 15 साल में पहली बार एक दिसंबर को दिन में सबसे ज्यादा ठंड रही। विभाग के अनुसार बुधवार को अधिकतम तामपान 21 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया, जबकि 2005 के बाद से कभी भी एक दिसंबर को अधिकतम तापमान गिरकर 21 डिग्री सेल्सियस तक नहीं आया है। पीएयू के मौसम विभाग की हैड प्रभजोत कौर ने कहा कि वेस्टर्न डिस्टबेंस की वजह से लो प्रेशर एरिया आया है। इसकी वजह से ही शहर में बादल छाएं रहे और हवाएं चली। बादल छाएं रहने से दिन के तापमान में गिरावट आई और ठंड महसूस हाे रही थी।

इसके साथ ही स्मॉग भी छाई रही। जिसके कारण एक्यूआई का स्तर 249 के करीब रहा। डा. प्रभजोत ने कहा कि वेस्टर्न डिस्टर्बेंस पूरी तरह से सक्रिय होने की वजह से दो और तीन दिसंबर और फिर 5 दिसंबर को लुधियाना में बादल छाए रहने और हल्की बारिश की संभावना है। वहीं पहाड़ों में भी बर्फबारी और बारिश की संभावना जताई गई है, जिसका असर पंजाब पर लाजिमी तौर पर पड़ेगा। इस तरह के मौसम में बच्चों व बुजुर्गों को विशेष ध्यान रखना चाहिए।

Edited By: Vipin Kumar