लुधियाना, [भूपेंदर सिंह भाटिया]। Punjab Vidhan Sabha Chunav: शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने विधानसभा चुनाव की बिसात पर सबसे पहले चाल चल दी है। जिले की 14 विधानसभा सीटों में से नौ से प्रत्याशी चुनावी दंगल में उतार दिए हैं। शिअद ने एक बार फिर दिग्गजों पर दांव खेला है। फिलहाल घोषित नौ प्रत्याशियों में एक भी महिला को चुनावी मैदान में नहीं उतारा गया है। लुधियाना दक्षिण हलका शिअद के लिए अब भी सिरदर्द बना हुआ है।

इस हलके से तीन दिग्गजों के दावेदारी ठोंक रखी है। ऐसे में शिअद अध्यक्ष सुखबीर बादल ने यहां से प्रत्याशी का एलान नहीं किया है। दावेदारों में पूर्व मंत्री और पिछले विस चुनाव में हार का सामना कर चुके हीरा सिंह गाबड़िया भी शामिल हैं। यही नहीं युवा पार्षद और पूर्व मेयर के बेटे जसपाल सिंह ग्यासपुरा और पार्टी के अनुसूचित जाति से संबंधित नेता निर्मल सिंह एसएस ने भी दावेदारी ठोंक रखी है। घोषित नौ प्रत्याशियों में शरणजीत सिंह ढिल्लों और मनप्रीत अयाली वर्तमान में विधायक हैं।

एसआर कलेर, रंजीत सिंह ढिल्लों, दर्शन सिंह शिवालिक पिछली बार भी विधानसभा चुनाव लड़ चुके हैं लेकिन जीत नहीं पाए थे। इसके अलावा महेश इंदर सिंह ग्रेवाल पिछली बार लोकसभा चुनाव लड़ चुके हैं। शिअद ने इस बार परमजीत सिंह ढिल्लों, प्रितपाल सिंह और हरीश राय ढांडा नए चेहरों पर भी भरोसा दिलाया है। साहनेवाल से पार्टी ने विधायक एवं दिग्गज नेता शरणजीत सिंह ढिल्लों और समराला के युवा अकाली नेता परमजीत ¨सह ढिल्लों को पहले ही उम्मीदवार घोषित कर दिया था।

लुधियाना पूर्वी हलके से जिला प्रधान रंजीत सिंह ढिल्लों को फिर टिकट दी गई है। इससे पहले वर्ष 2012 में ढिल्लों विधायक बने थे, लेकिन 2017 में उन्हें हार का सामना करना पड़ा था। लुधियाना सेंट्रल में वरिष्ठ नेता एवं गुरुद्वारा दुख निवारण साहिब के मुख्य सेवादार प्रितपाल सिंह को टिकट दी है। यह सीट भी पिछले चुनाव में भाजपा के पास थी। भाजपा नेता गुरदेव शर्मा देबी को हार का सामना करना पड़ा था। लुधियाना उत्तर हलके की सीट बसपा के खाते में है। वहां से उम्मीदवार घोषित होना अभी बाकी है।