जागरण संवाददाता, लुधियाना। महानगर में जरा सी लापरवाही में एक मासूम बच्चे को अपनी जान से हाथ धोना पड़ा है। ग्यासपुरा ग्राउंड में चल रहे दशहरा मेले में उस समय माहौल मातम और दहशत में बदल गया, जब झूले से गिरकर 8 साल के कुशमप्रीत की दर्दनाक मौत हो गई। थाना साहनेवाल की कंगनवाल चौकी पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर ईएसआई अस्पताल में शव गृह में रखवा दिया। शनिवार उसका पोस्टमार्टम किया जाएगा। चौकी इंचार्ज एसआइ बलविंदर सिंह ने बताया कि कुशमप्रीत शिमलापुरी के गुरु गोबिंद सिंह नगर की गली नंबर 2 में रहने वाले मनदीप सिंह का बेटा था। वह शुक्रवार शाम को अपनी मां, भाई और बहन के साथ मेला देखने के लिए ग्यासपुरा मैदान में गया था। पुलिस मामले की जांच कर रही है।

शाम करीब 6.30 बजे सभी लोग ब्रेक डांस झूला (जिसमें बड़े व्हील पर रखी चेयर्स गोल गोल घूमती हैं) झूलने के लिए गए। झूले वाले का कहना है कि उसने कुशमप्रीत की छोटी उम्र का हवाला देते हुए उसकी मां को बोल दिया था कि बच्चे की उम्र कम है, उसे झूले में नहीं बैठाया जा सकता है। मगर उसकी मां ने कहा कि वह अपनी मर्जी और जिम्मेदारी से उसे बैठा रही है। मजबूरन उसे झूले में बैठाना पड़ा।

पहले ही चक्कर में बिगड़ा संतुलन, ग्रिल से टकराया सिर

झूले वाले का कहना है कि पहले ही चक्कर में बैलेंस बिगड़ने से वह नीचे गिर गया। उसका सिर ग्रिल से टकराया, जिससे वो गंभीर रूप से घायल हो गया। इलाज के लिए उसे नजदीकी अस्पताल ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने उसे देखते ही मृत करार दे दिया। फिलहाल, परिवार के बयान दर्ज किए जाने बाकी हैं। उसके बाद अगली कार्रवाई की जाएगी।

यह भी पढ़ें - Delhi Singhu Border Murder: बेरहमी से मारे गए लखबीर की पत्नी बोली; मेरा पति कभी अमृतसर नहीं गया, सिंघू बार्डर कैसे पहुंचा

Edited By: Pankaj Dwivedi