जागरण संवाददाता, लुधियाना। बुधवार रात से झमाझम बारिश पड़ने से महानगर के चौक चौराहों पर पानी जमा हो गया है। दूसरी ओर शहर के निचले क्षेत्रों में घरों तक में पानी भर गया है। बुड्ढा दरिया के साथ लगे तकरीबन सभी घरों में पानी भरने से लोग परेशान हैं। जगराओं पुल, दमोरिया पुल, समराला चौक, ग्यासपुरा चौक, शेरपुर चौक, राहों रोड, शिवपुरी, शिवाजी नगर, जनकपुरी, विश्वकर्मा चौक, जेल चौक, जनता नगर आदि में पानी जमा होने से आवागमन ठप है। महानगर में बुधवार देर रात शुरू हुई बारिश का क्रम वीरवार सुबह 10.30 बजे तक जारी है। शहर की सड़कों पर जगह-जगह पानी जमा होने से लोगों का आवागमन ठप हो रहा है।

नगर निगम जोन डी के बाहर जमा पानी।

भावनगर में सड़कें जलमग्न

भावनगर के बाहरी इलाकों की सड़कें जलमग्न हो गई हैं। इस कारण नौकरीपेशा लोगों को काम पर जाने में भारी मुश्किल का सामना करना पड़ा। चंडीगढ़ रोड, 33 फुटी रोड, रामनगर, मुंडिया कला, सुआ रोड, ग्यासपुरा, कंगनवाल आदि स्थानों पर जलभराव के कारण इन स्थानों से गुजरना मुश्किल हो गया है। 

शिवपुरी रोड पर बारिश के पानी में फंसा आटो।

खुदी सड़कें बनी बड़ी मुसीबत, आटो पलटा

वहीं, कई इलाके निर्माण के लिए खोदी गईं सड़कें नहीं बनने से मौके पर कीचड़ हो गया है। रावला चौक के पास जीटी रोड की सर्विस लेन में बड़ा गड्ढा होने से फल-सब्जी से लदा आटो पलट जाने से सारा सामान पानी में गिर गया और व्यापारी मामूली रूप से घायल हुए। लोगों ने मदद कर व्यापारी का वह तो सीधा किया और सामान निकाल कर आटो पर डाला।

शिवपुरी चौक में भरे बारिश के पानी के बीच से गुजरते हुए वाहन चालक।

घरों में घुसा बारिश का पानी

महानगर के निचले क्षेत्रों में बारिश का पानी घरों में घुस गया है। न्यू शिवपुरी, नूरवाला रोड, जनकपुरी, शिवाजी नगर, सलेम टाबरी, खजूर चौक, शिमलापुरी, शेरपुर आदि में घरों में बारिश का पानी घुस जाने से लोग मुश्किल में फंस चुके हैं। शिवपुरी के रिपुसूदन कौशिक ने कहा कि बुड्ढा दरिया के साथ लगे तकरीबन सभी घरों में पानी घुस जाने से लोग परेशान हैं।

न्यू शिवपुरी के नरेश कुमार, जनकपुरी के अशोक शर्मा, शेरपुर के रमन कुमार और मोहम्मद जमील ने बताया कि उनके घरों में पानी भर जाने से काफी परेशानी हो रही है। घर में पानी भरने से बच्चे दहशत में हैं और वे लोग चाह कर भी कुछ नहीं कर पा रहे हैं। अन्य क्षेत्रों से भी घरों में पानी भरने की सूचना मिली है। लोगों का कहना है कि इस तरह का बारिश दो दशक से नहीं हुई है। 

Edited By: Pankaj Dwivedi