जागरण संवाददाता, लुधियाना। महानगर में 142 इमारतों को असुरक्षित पाए जाने के बाद नगर निगम बड़ी कार्रवाई कर सकता है। नगर निगम के विशेषज्ञों की टीम ने सर्वे कर असुरक्षित इमारतों को चिन्हित किया है। इन इमारतों को खाली करवाने के निर्देश जारी किए गए थे। समय पूरा होने के बाद भी लोगों ने इमारतों को खाली नहीं किया है। अब नगर निगम के अधिकारियों ने पुलिस कमिश्नर राकेश अग्रवाल को पत्र लिखा है कि पुलिस की मदद से इन इमारतों को खाली करवाया जाए। बरसात का मौसम है। भारी बारिश में कभी भी कोई इमारत गिर सकती है। बड़े हादसे से बचने के लिए निगम अब सख्त कदम उठा रहा है।

यह भी पढ़ें-लुधियाना में दो चचेरी बहनों ने घर से भागकर रचाई शादी, भाई ने किया कन्यादान, वीडियो वायरल

अधिकतर इमारतों को लेकर किरायेदारों व मालिकों के बीच विवाद

गौरतलब है कि लुधियाना पुराने शहरों में से एक है। यहां कई इमारतें 100 साल से भी अधिक पुरानी हैं। कुछ में लोग रह रहे हैं और कई में कारोबार किया जा रहा है। अधिकतर इमारतों को लेकर किरायेदारों व मालिकों के बीच विवाद चल रहा है। नगर निगम कमिश्नर प्रदीप सभ्रवाल का कहना है कि बरसात में असुरक्षित इमारतों के गिरने का खतरा रहा है। कोई हादसा न हो ऐसे में सुरक्षा जरूरी है। पुलिस की मदद से इन इमारतों को खाली करवाया जाएगा।

यह भी पढ़ें-Ludhiana Weather Update : लुधियाना पर मानसून मेहरबान, सुबह-सुबह रिमझिम बरसे बादल; मौसम हुआ कूल-कूल

लुधियाना की दोमंजिला फैक्ट्री में हाे चुका है बड़ा हादसा

लुधियाना के बाबा मुकंद सिंह नगर में इस साल छह अप्रैल काे ऑटो पार्ट्स की दोमंजिला फैक्ट्री जैक के सहारे लेंटर उठाते समय भरभराकर गिरने से चार मजदूरों की मौत जबकि 40 जख्मी हो गए थे। पुलिस ने फैक्टरी मालिक जसविंदर सिंह और लेंटर उठाने वाले ठेकेदार मोहम्मद हारून के खिलाफ गैर इरादतन हत्या का मामला दर्ज कर लिया था।

 

Edited By: Vipin Kumar