जेएनएन, जालंधर। देश भर के साथ पूरे पंजाब में बुराई पर अच्छाई की जीत का पर्व विजयदशमी पूरे उत्साह के साथ मनाया जा रहा है। प्रदेश के विभिन्न जिलों में रामलीला और दशहरा कमेटियों को ओर से आयोजित दशहरा उत्सवों में पूरी भव्यता के साथ रावण दहन किया जा रहा है।

इस दौरान अहंकारी राणव और उसके भाइयों मेघनाथ, कुंभकर्ण के धू धू कर जलते पुतलों को देखने के लिए भारी भीड़ उमड़ी। मोहाली के फेज-8 में हुए रावण दहन कार्यक्रम में खुद मुख्यमंत्री भगवंत मान ने शिरकत की। आइए एक नजर डालते हैं पंजाब के अलग-अलग जिलों में हुए रावण दहन की तस्वीरों पर। 

लुधियाना के दरेसी मैदान में धू धू करके जलता हुआ दशानन। 

  

कपूरथला में दशहरा उत्सव के दौरान रावण दहन कार्यक्रम देवी तालाब मंदिर में आयोजित किया गया। यहां रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण को जलते देखने के लिए भारी भीड़ उमड़ी। 

तरनतारन में रावण और कुंभकर्ण के 60,60 फीट के पुतले दहन किए गए। मुख्य कार्यक्रम दशहरा ग्राउंड में आयोजित किया गया।

तरनतारन पट्टी की कालेज ग्राउंड में रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण के 50,50 फीट के पुतले जलाए गए।

गुरदासपुर में गुरु नानक देव रीजनल कैंपस के सामने पार्क में रावण दहन का नजारा देखते हुए दर्शक। 

नंगल में विजयदशमी पर धू-धू कर जलते हुए रावण, मेघनाद व कुंभकर्ण के पुतले। 

पठानकोट में श्री कृष्ण नाटक कल्ब राम लीला ग्राउंड द्वारा आयोजित दोश हरा दौरान रावण, कुंभकरण व मेगनाद के पुतल धूं धूं कर जलते हुए। रावण का पुतला 55 फीट ऊंचा था जबकि कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले 45-45 फीट के थे। जिले में यह सबसे बड़े पुतले थे।

दशहरा पर्व पर नेहरू स्टेडियम फरीदकोट में धू-धू कर जलता हुआ रावण का पुतला-जागरण

होशियारपुर के दातारपुर में कुछ इस तरह जला दशानन।

पठानकोट में कबीर नाटक क्लब सैली रोड की ओर से आयोजित दशहरा उत्सव में रावण, मेघनाथ और कुंभकर्ण का दहन इस तरह किया गया।

श्री मुक्तसर साहिब में बुधवार को विजयदशमी की धूम रही। वहां धू-धू कर जलते रावण कुंभकरण और मेघनाथ के पुतले।

Edited By: Pankaj Dwivedi

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट