जागरण संवाददाता, जालंधर : केयरमेक्स अस्पताल के एमडी डा. रमन चावला ने बताया कि शुगर और हाई बीपी वाले मरीजों को सीने में होने वाले दर्द को दरकिनार नहीं करना चाहिए। सीने में दर्द के कई कारण हो सकते है। सीने में गंभीर दर्द होने पर अफरा-तफरी मचाने के बजाय मरीज को आराम से बिठा दें। उसे पानी में डिसप्रीन की गोली घोलकर पिला दें। इससे 30 फीसदी के करीब मरीजों को दर्द से आराम मिलता है। वह आईएमए की ओर से स्थानीय होटल में आयोजित सेमिनार में संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने बताया कि सीने में होने वाली दर्द के कई कारण हो सकते है। पेट में गैस की वजह से छाती में दर्द उठने लगता है। इसके अलावा तनाव, अत्याधिक व्यायाम करने, पुरानी चोटें, सरवाइकल आदि के कारण सीने में दर्द पहुंच सकता है। सीने के बीच होने वाला दर्द जो खासकर बाई बाजू में जाए या फिर गले में घुटन महसूस करे इस तरह का दर्द हार्ट अटैक की निशानी हो सकती है। केवल ईसीजी करने की हार्ट अटैक की पुष्टि की जा सकती है।

हड्डी रोग माहिर डा. मनीश बंसल ने घुटने और कंधे में होने वाली दर्द के बारे में विस्तृत जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हार्ट अटैक का दर्द केवल बाएं कंधे की तरफ बढ़ती है। इसके अलावा शूगर के मरीजों में भी कंधे में दर्द होने के चांस रहते है। उन्होंने व्यायाम और पौष्टक आहार करने की सलाह दी। इस मौके प्रधान डा. अमरजीत सिंह, डा. नरेश बाठला, डा. एसएस भुटानी, डा. सुषमा चावला, डा. सीएस परुथी,डा. एसपीएस ग्रोवर, डा. अश्विनी सूरी, डा. संजीव सूद, डा. बलराज गुप्ता, डा. पवन गुप्ता, डा. जीएस बब्बर मौजूद रहे।

Edited By: Jagran