शाम सहगल, जालंधर। Broccoli Price 1Kg in Punjab: अगर आप ब्रोकली (हरे रंग की गोबी) खाने के शौकीन हैं तो जेब ढीली करने को भी तैयार रहें। कारण, एक माह के भीतर ही ब्रोकली के दामों ने डबल सेंचुरी मार दी है। दामों में इजाफे का दौर निरंतर जारी है। जो आने वाले दो महीनों तक यथावत रहेगा। दामों में भारी इजाफे के साथ ही छोटी मंडियों में ब्रोकली गायब हो गई है। इन दिनों हिमाचल प्रदेश, जम्मू कश्मीर तथा उत्तरांचल से ब्रोकली की आमद हो रही है। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में भारी इजाफे के चलते परिवहन का खर्च भी बढ़ना दामों में इजाफे का एक कारण है। जून माह के मध्यांतर में 100 से 120 रुपये प्रति किलो बिक रही ब्रोकली के दाम बढ़कर 200 रुपये प्रति किलो हो चुके हैं। सलाद में ब्रोकली को शामिल करने वाले लोगों की पहुंच से दूर हो चुकी ब्रोकली की भाजी के शौकीन भी महंगाई के दौर में इससे तौबा करने लगे है।

दो माह तक झेलनी होगी महंगाई

इस बारे में सब्जी के थोक विक्रेता बलराज अरोड़ा बताते हैं कि अभी दो माह तक लोगों को महंगी ब्रोकली ही खरीदनी पड़ेगी। कारण, सीजन की फसल आने में अभी दो माह लगेंगे। उन्होंने कहा कि इस बीच दामो में और भी इजाफा हो सकता है। महंगी होने के कारण व गर्मी में जल्दी खराब होने के डर से छोटी मंडियों के विक्रेता अब ब्रोकली मंगवाने से परहेज कर रहे है। लिहाजा, आर्डर पर ब्रोकली मंगवाई जा रही है।

विटामिन-ए व सी से भरपूर है ब्रोकली

हरे रंग की गोबी ब्रोकली एंटीऑक्सीडेंट्स, फाइबर, आयरन, कैल्शियम, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन के साथ-साथ विटामिन ए तथा सी से भरपूर होती है। खासकर आंखों से संबंधित समस्याएं, जिसमें नजर का कमजोर होना व मोतियाबिंद उतरना सहित समस्याओं के लिए भी वरदान है। इस बारे में डा. एचएस भूटानी बताते हैं कि बच्चों के लिए ब्रोकली का सेवन किसी औषधि से कम नहीं है।

Edited By: Vikas_Kumar