जागरण संवाददाता, गुरदासपुर। संसद में तीन दिसंबर को होने जा रहे नेशनल यूथ संसद कार्यक्रम में देशभर के सात राज्यों के युवा विद्यार्थी अलग-अलग विषयों पर संबोधित करेंगे। पंजाब में प्रतिनिधित्व करने के लिए अलग-अलग चरणों से गुजरी सीमावर्ती कस्बे डेरा बाबा नानक की छात्रा योगिता का चयन किया गया है।

इस उपलब्धि के लिए योगिता ने परिवार व अपने अध्यापकों के सहयोग और परमात्मा शुक्रिया किया। योगिता की इस उपलब्धि पर परिवार में खुशी की लहर है। परिवार परमात्मा का शुक्रिया करते थक नहीं रहा। योगिता का कहना है कि उसने कभी सोचा भी नहीं था कि वह यह उपलब्धि हासिल करेगी और उसका देश की संसद में पंजाब के प्रतिनिधित्व के लिए चयन होगा। कार्यक्रम तीन दिसंबर को प्रथम राष्ट्रपति डाक्टर राजेंद्र प्रसाद की जयंती पर होगा।

योगिता का कहना है कि उसे देश के पहले राष्ट्रपति डाक्टर राजेंद्र प्रसाद की जीवनी और उनकी जीवनयात्रा से जुड़ा विषय मिला है। योगिता ने शिक्षा डेरा बाबा नानक और फिर सरकारी कालेज गुरदासपुर से हासिल की है। अब उसने ग्रेजुएशन की है। 

योगिता जिला व प्रदेश स्तरीय प्रतियोगिताओं में हिस्सा लेती रही हैं। संसद में भाषण के लिए चयन के लिए योगिता का कहना है कि यह इतना आसान नहीं था। देश के 25 राज्यों से बच्चे थे, उनमें से सिर्फ सात राज्यों से बच्चों का चयन हुआ है।

यह पूछे जाने पर कि वह क्या बनना चाहती हैं योगिता ने कहा वह टीचर बनना चाहती हैं। परिवार में योगिता की मां अनीता रानी और दादा जगदीश मित्तर ने खुशी जाहिर करते हुए कहा कि यह बड़े गर्व की बात है। आज योगिता जिस उपलब्धि पर है, वह अपनी मेहनत की बदौलत है। उन्होंने कभी सोचा नहीं था कि योगिता इतनी बड़ी उपलब्धि को हासिल करेगी।

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट