Move to Jagran APP

Punjab Politics: 'पत्नी और बेटी के साथ की गई बदसलूकी...', किसानों को चेतावनी देने के मामले में बोले हंस राज हंस

Punjab Politics फरीदकोट संसदीय सीट से भाजपा प्रत्याशी हंस राज हंस को लगातार विरोध का सामना करना पड़ रहा है। इस बीच शुक्रवार को हंसराज हंस बिहलेवाला गांव में प्रचार करने के लिए पहुंचे थे। यहां किसानों ने हंसराज हंस का विरोध करना शुरू कर दिया। किसानों को कथित रूप से चेतावनी देने के मामले में हंस राज ने कहा कि कार्यकर्ताओं के घर जलाने की बात कही गई थी।

By Jagran News Edited By: Prince Sharma Sat, 18 May 2024 06:15 PM (IST)
कार्यकर्ता का घर जलाने तक की धमकी दी, तभी मैं बोला- हंस राज हंस

इंद्रप्रीत सिंह, मोगा। Punjab News: भारतीय जनता पार्टी के प्रत्याशी हंस राज हंस (BJP Cadidate Hans Ran Hans) की तरफ से किसानों को चेतावनी देने की वीडियो लगातार वायरल हो रही है। इस पर सफाई देते हुए हंस राज हंस ने कहा है कि गांव संगराहूर में उनके कार्यकर्ता कृष्ण लाल के घर पर चुनावी बैठक थी।

पत्नी और बेटी के साथ की गई बदसलूकी

इससे पहले कुछ शरारती तत्व उनके घर पहुंचे थे, यहां मीटिंग करवाने पर घर को जला देने की धमकी दी गई, यही नहीं उनकी बेटी और पत्नी से भी बदसलूकी गई है। जब वह वहां घर पहुंचे तो परिवार उनके गले लगकर रोया था और उन्हें इस पर दुख भी हुआ और कुछ गुस्सा भी आया था।

मैंने कोई धमकी नहीं दी: हंस राज हंस

मैंने कोई धमकी नहीं दी है, मैने तो अपने कार्यकर्ताओं को 2 तारीख तक संजम रखकर प्रचार करने के लिए कहा है। मैंने कहा है कि 2 तारीख के बाद चुनाव समाप्त हो जाएंगे और इसके बाद देखेंगे क्या करना है। मेरे चुनाव प्रचार में खलल डालने का प्रयास काफी लंबे समय से हो रहा है। मैने हमेशा निर्मता के साथ उनका सामना किया है। मैंने कभी गुस्सा जाहिर नहीं किया।

हंस राज हंस के खिलाफ शिकायत दर्ज

आम आदमी पार्टी ने हंस राज हंस के खिलाफ चुनाव आयोग को शिकायत की है। शिकायत में कहा गया है कि हंस राज हंस सरेआम किसानों को गाली दे रहें, किसानों को धमका रहे हैं और नफरत भरे भाषण दे रहे है। यह न सिर्फ चुनाव आचार संहिता का उल्लंघन है बल्कि अपराध भी है।

पार्टी की ओर से हंस राज हंस के खिलाफ सख्त कार्रवाई करने की मांग की गई है। आप की ओर से दी गई शिकायत में कहा गया है कि जानबूझ कर किसानों को भड़काया जा रहा है ताकि किसान उकसावे में आए और राज्य की शांति भंग हो। पार्टी की ओर से शिकायत में कहा गया है कि यह बेहद चिंताजनक और अस्वीकार्य है।

सार्वजनिक पद के लिए एक उम्मीदवार उन लोगों को डराने, परेशान करने और उकसाने के लिए ऐसी घृणित रणनीति का सहारा लेगा, जिनका उसे प्रतिनिधित्व करना चाहिए। पार्टी की ओर से कहा गया है कि किसान हमारे देश की रीढ़ हैं और उनके साथ सम्मान और सम्मान के साथ व्यवहार किया जाना चाहिए, न कि मौखिक दुर्व्यवहार और धमकियों का शिकार होना चाहिए।

ये था मामला

बता दें कि हंस राज हंस ने किसानों को लेकर विवादस्पद बयान दिया था, जिसमें उन्होंने कहा था कि किसानों के नाम पर नंबर नोट कर लीजिए, 2 तारीख के बाद देखूंगा। जिसके बाद हंस राज हंस ने इस मामले में सफाई दी। आप ने हंस राज हंस के खिलाफ तत्काल कार्रवाई करने और यह सुनिश्चित करने की मांग की है। उन किसानों को सुरक्षा प्रदान करने की भी मांग की गई है जिन्हें हंस राज हंस ने निशाना बनाया है।

यह भी पढ़ें- Punjab News: 'विकास कार्यों पर ओपन डिबेट करें मुख्‍यमंत्री', सुखपाल खेहरा ने CM मान को दी खुली चुनौती