प्रदीप कुमार सिंह, फरीदकोट। बाबा फरीद यूनिर्वसिटी आफ हेल्थ साइंस फरीदकोट के अगले वाइस चांसलर डा. गुरप्रीत सिंह वांडर होंगे। डा. वांडर के वाइस चांसलर के रुप में नियुक्त की जानकारी खुद राज्य के मुख्यमंत्री भगवंत मान द्वारा अपने इंटरनेट पेज पर डा. वांडर की फोटो अपलोढ़ करने के साथ दी गई। डीएमसी लुधियाना में कार्डीलाजिस्ट विभाग के हेड डा. वांडर के बारे में मुख्यमंत्री द्वारा बताया गया है कि वह हदृय रोग के ख्याति प्राप्त डाक्टर है, और मुख्यमंत्री द्वारा उनकी नियुक्त की जानकारी देते हुए आशा जताई है कि डा. वांडर के योग्य नेतृत्व में लोगों की सेवा में यह संस्था बड़ा योगदान देगी। हालांकि, डा. वांडर के वाइस चांसलर के रूप में नियुक्त का इशारा फरीदकोट 24 सितंबर को दौरे के दौरान मुख्यमंत्री द्वारा कर दिया गया था, और उन्होंने अपने संबोधन में कहा था, कि एक-दो दिनों के अंदर ही बाबा फरीद यूनिवर्सिटी को एक ऐसा वाइस चांसलर मिलेगा, जो कि अच्छा डाक्टर होने के साथ ही अच्छा प्रबंधक भी होगा।

गौर हो कि, 29 जुलाई को बाबा फरीद यूनिर्वसिटी के तत्कालीन वाइस चांसलर डा. राज बहादुर द्वारा अपने पद से यह कहते हुए इस्तीफा दे दिया गया था, कि अब यहां पर काम करने का माहौल नहीं है। डा. राज बहादुर को अपना इस्तीफा वापस लेने के लिए मुख्यमंत्री से लेकर दूसरे लोगों द्वारा प्रयास किए गए, परंतु डा. राज बहादुर द्वारा इस्तीफे पर अड़े रहने को देखते हुए 12 दिन बाद मुख्यमंत्री द्वारा उनका इस्तीफा मंजूर करते हुए वाइस चांसलर पद हेतु विज्ञापन जारी किया।

विज्ञापन के आधार पर कुल 22 लोगों द्वारा प्रदेश व देश के विभिन्न हिस्सों से आवेदन किया गया था, इन्हीं आवेदनों की स्क्रूटनी उपरांत डा. गुरप्रीत सिंह वांडर की नियुक्त हुई है। हालांकि, डा. वांडर के सिर वाइस चांसलर का कांटो भरा ताज है, और उनके लिए यूनिर्वसिटी और मेडिकल कालेज अस्पताल के अधिकारियों व कर्मियों के साथ संजस्य बैठाकर सरकार की आशाओं पर खरा उतरने की बड़ी चुनौती होगी।

Edited By: Vinay kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट