चंडीगढ़, ऑनलाइन डेस्क। Sidhu Moosewala Murder Case: पंजाबी सिंगर और कांग्रेस नेता सिद्धू मूसेवाला की हत्या के बाद से बिश्नोई गैंग और गैंगस्टर गोल्डी बराड़ का नाम सुर्खियों में बना हुआ है। पंजाब पुलिस लगातार उसको गिरफ्तार करने की कोशिश में जुटी हुई है। इस समय गोल्डी बराड़ भारत से दुर जाकर अमेरिका में छिपा बैठा है लेकिन हाल ही में बताया जा रहा है कि गोल्डी को अमेरिका के कैलिफोर्निया में गिरफ्तार कर लिया गया है और अभी पुलिस हिरासत में है।

बता दें कि गोल्डी कनाडा में रहता था लेकिन जब से उसने ये बात कबूली है कि सिद्धू मूसेवाला की हत्या के पीछे उसी का हाथ है तभी से वे अमेरिका में जाकर छिपा बैठा था। मूसेवाला की हत्या को लेकर अब तक बिश्नोई गैंग समेत 20 से अधिक आरोपियों की गिरफ्तारी की जा चुकी हैं। इसमें अब एक और नाम जल्द जुड़ने वाला है और वो है गोल्डी बराड़ का लेकिन सवाल है कि उसे कब तक भारत लाया जाएगा?

गोल्डी बराड़ ने ली थी हत्या की जिम्मेदारी

29 मई 2022 का वो काला दिन जब पंजाब के मानसा के जवाहरके गांव में सिद्धू मूसेवाला पर गोलियों की बरसात की गई थी। ये दिन भूल कर भी भुलाया नहीं जा सकता है। मूसेवाला की हत्या ने न केवल भारत बल्कि विदेशों में भी लोगों का दिल दहला दिया था। बता दें कि मूसेवाला पर गोलिया तब चलाई गई थी जब वे पास ही के एक गांव में अपने किसी रिश्तेदार से मिलने जा रहे थे।

यहां मूसेवाला की हत्या हुई और पुलिस आरोपियों की तलाश में जुट गई। लेकिन हत्यारे ने सामने से ही आकर ये बात कबूली की मूसेवाला की हत्या के पीछे और कोई नहीं बल्कि खुद गोल्डी बराड़ है। गोल्डी ने कनाडा में बैठे एक सोशल मीडिया पोस्ट किया जिसमें उन्होंने मूसेवाला की हत्या की जिम्मेदारी ली और कहा था कि दुश्मनों का साथ देने वालों का यहीं हाल कर दिया जाता है।

Winter Session: शीतकालीन सत्र से पहले सरकार ने आज बुलाई है सर्वदलीय बैठक, विभिन्न दलों के नेता होंगे शामिल

वर्ष 2017 में ही चला गया था कनाडा

गैंगस्टर्स के खिलाफ एक्शन ले रही पंजाब पुलिस के लिए गोल्डी बराड़ को पकड़ना मुश्किल हो रहा था क्योंकि वो कनाडा में छुपा बैठा था। भारतीय एजेंसिया चाह कर भी गोल्डी को पकड़ने में नाकाम थी। लेकिन अब इस मामले में दावा किया जा रहा है कि गोल्डी को हिरासत में ले लिया गया है। बताते चले की गोल्डी वर्ष 2017 में स्टूडेंट वीजा पर कनाडा चला गया था और तब से ही वे वहीं रह रहा था।

कनाडा में रहते हुए उसने भारत में एक के बाद एक आपराधिक घटनाओं को अंजाम दिया। लेकिन जब मई में सिद्धू मूसेवाला की हत्या हुई और उसने हत्या का जूर्म कबूला तो भारतीय एजंसिया गोल्डी को पकड़ने में जुट गई। पंजाब पुलिस और भारतीय एजेंसियों के निशाने पर आने के बाद गोल्डी कनाडा से भागकर अमेरिका में जा छिपा। अपने वकीलों की मदद से गोल्डी ने अमेरिका में राजनीतिक शरण लेने की शातिर चाल चली ताकि भारतीय पुलिस उसे पकड़ न सके। राजनीतिक शरण से यहां मतलब है कि जब कोई व्यक्ति ये दिखाने की कोशिश में होता है कि वह जिस देश का रहने वाला है वहां उसे खतरा है और उसे वहां न्याय नहीं मिल सकता है।

अमेरिका में हुआ गिरफ्तार

गोल्डी की सारी कोशिशें नाकाम रही और अब बताया जा रहा है कि उसे कैलिफोर्निया की फेसनो सिटी से गिरफ्तार कर लिया गया है और अब वे पुलिस हिरासत में है। हालांकि, अब तक गोल्डी की गिरफ्तारी की आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है लेकिन सूत्रों के मुताबिक उसे 20 मई के आस-पास पकड़ा गया था और तब से ही वे पुलिस हिरासत में है। बता दें कि गोल्डी के ऊपर पहले से ही दो पुराने मामलों में रेड कॉर्नर नोटिस जारी की जा चुकी है। पंजाब के मुख्यमंत्री भगवंत मान ने गोल्डी को जल्द से जल्द भारत लाने की बात कही है।

Weather Update: चक्रवाती तूफान को लेकर IMD का अलर्ट, तमिलनाडु-पुडुचेरी और आंध्र प्रदेश में भारी बारिश के आसार

कौन है गोल्डी बराड़?

गोल्डी बराड़ का असली नाम सतिंदरजीत सिहं है। पुलिस के मुताबिक, गोल्डी ने कई अपराधों को अंजाम दिया है। वर्ष 2017 को भारत से कनाडा चला गया और वहीं से बैठे-बैठे कई अपराधों को अंजाम दिया। गोल्डी भारत में गैंगस्टर लॉरेंस बिश्नोई के साथ गठजोड़ कर वो वसूली रैकेट चलाता था और सिद्धू मूसेवाला जैसे कई हत्या के आरोपों में शामिल भी रहा है।

हैदराबाद के एक एटीएम से निकल रहे सोने के सिक्के, लगा दुनिया का पहला रियल टाइम Gold ATM

Edited By: Nidhi Avinash

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट