चंडीगढ़, [राजेश ढल्ल]। कोरोना वायरस से उत्पन्न संकट के बीच प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को अपने बीते दिनों के साथियों और चंडीगढ़ की याद सताई और संगठन के दिनों के साथी प्रसाद परिवार से सीधा संपर्क साधकर सभी के हाल चाल पूछे। प्रधानमंत्री मोदी ने बीते रविवार देर शाम को चंडीगढ़ भाजपा के मौजूदा कोषाध्यक्ष राज किशोर को फोन कर सर्वप्रथम उनकी 75 वर्षीया मां चुन्नी देवी का हाल-चाल पूछा। मां का विशेष ख्याल रखने के लिए किशोर को कहा। 17 मिनट तक पीएम मोदी राज किशोर के साथ बात करते रहे।

मोदी 90 के दशक में जब चंडीगढ़, हरियाणा और हिमाचल प्रदेश के प्रभारी थे तो वे पंचकूला स्थित सेक्टर-7 में संघ सदस्य स्वर्गीय हनुमान प्रसाद और परिवार के साथ रहा करते थे और संगठन का संचालन करते थे। प्रधानमंत्री मोदी के चंडीगढ़ प्रवास के दौरान राज किशोर के बड़े भाई महावीर प्रसाद भाजपा के महासचिव थे। जोकि इससे पहले भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष रह चुके थे। पीएम मोदी ने राज किशोर से पूछा कि वह लॉकडाउन में क्या करते हैं। जिस पर उन्होंने पीएम मोदी को बताया कि चंडीगढ़ भाजपा के नेता प्रतिदिन रात को दो घंटे वीडियो कांफ्रेंसिंग से आपस में बात करके जरूरतमंद लोगों की मदद करने की रणनीति बनाते हैं। प्रतिदिन चंडीगढ़ भाजपा 50 रसोइए लगाकर 75 हजार लोगों के लिए खाना बना रही है।

हर पुरानी बात की साझा

राज किशोर ने बताया कि मोदी ने उनकी लॉकडाउन दिनचर्या के विषय में भी पूछा। पीएम मोदी को हर पुरानी बातें याद है। उनसे बात करके उनमें एक नई ऊर्जा आ गई है। इतनी व्यस्तता में भी मोदी ने उन्हें संपर्क किया। इसके लिए वह पीएम मोदी के आभारी हैं। कोरोना की इस जंग में पूरा देश मोदी के साथ है।

महाजन, टंडन और शारदा का भी जाना हाल

राज किशोर ने भाजपा द्वारा पहुंचाए जा रहे सभी राहत कार्यो का ब्योरा भी दिया जिस पर उन्होंने हर्ष जताया। वार्तालाप के दौरान प्रधानमंत्री ने अपने समकालीन कार्यकताओं जैसे यशपाल महाजन, देसराज टंडन, युद्धवीर शारदा सहित कई वरिष्ठ सदस्यों की भी सुध ली। चंडीगढ और पड़ोसी शहरों के रेड जोन चिह्नित के चलते मोदी ने किशोर को सावधानियां बरतने की हिदायत भी दी। भाजपा प्रदेशाध्यक्ष अरुण सूद ने बताया कि प्रधानमंत्री द्वारा चंडीगढ़ से साधा संवाद कार्यकर्ताओं में जोश भरेगा। देश की सर्वोच्च जिम्मेदारी लेने के बाद भी उनका शहर के प्रति प्रेम और चिंता कभी समाप्त नहीं हुई जोकि सराहनीय है और उन्होंने विश्वास जताया कि शहरवासी लॉकडाउन का पालन कर कोरोना मुक्त कर प्रधानमंत्री की उम्मीदों पर खरा उतरेंगें।

मोदी के नेतृत्व में ही हुआ था पहला चुनाव

प्रधानमंत्री का चंडीगढ़ से पुराना नाता है। जब वे 1997 में संगठन मंत्री थे तो चंडीगढ़ नगर निगम के चुनाव हुए थे। पहली बार हुए चुनाव में ही भाजपा ने नगर निगम पर कब्जा कर लिया था। जब भाजपा ने नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में साल 2014 में चुनाव लड़ा तो उस समय ही चंडीगढ़ में भाजपा का सांसद बना था जबकि उससे पहले 15 साल तक चंडीगढ़ की सीट कांग्रेस के ही कब्जे मे थी। नरेंद्र मोदी चंडीगढ़ और पंचकूला की हर गली-मोहल्ले को भली-भांति जानते हैं।

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!