जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब विधानसभा का बजट सत्र अगले माह किसी भी समय हो सकता है। बजट सत्र में विपक्ष ने कांग्रेस सरकार को घेरने की तैयारी कर ली है। इस बार विपक्ष के निशाने पर मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह होंगे। उनको बेटे रणइंदर सिंह व दामाद के मामले को लेकर घेरने की कोशिश होगी। इसके साथ ही विपक्ष का हथियार गुंडा टैक्स भी होगा।

विपक्ष के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने पहले ही गुंडा टैक्स को लेकर अपने इरादे साफ कर दिए हैं। अकाली दल के निशाने पर वित्तमंत्री मनप्रीत बादल भी होंगे। विपक्ष के नेता सुखपाल सिंह खैहरा ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर के बेटे रणइंदर सिंह व कांग्रेसियों पर आरोप लगाया है कि बठिंडा रिफाइनरी से निकलने वाले ट्रकों से प्रति ट्रक करीब 20 हजार रुपये तक गुंडा टैक्स वसूला जा रहा है।

यह भी पढ़ें: राष्‍ट्रप‍ति कोविंद को याद आई चंडीगढ़ की बहादुर बेटी नीरजा भनोट

खैहरा का कहना है कि अकालियों की सरकार के समय में यह रेट पांच हजार रुपये प्रति ट्रक था। अभी तक रिफाइनरी से निकलने वाले टैक्स पर 'जोजो' टैक्स लगाने को लेकर वित्तमंत्री मनप्रीत बादल को अकाली दल घेरता रहा है। गौरतलब है कि जोजो वित्त मंत्री के साले का नाम है। उन पर ट्रकों से वसूली के आरोप लगते रहे हैं।

अकाली दल के प्रधान सुखबीर बादल ने जोजो टैक्स को लेकर मनप्रीत बादल के विरुद्ध लगातार हमले कर रहे हैं। खैहरा का आरोप है कि पप्पी नामक युवक ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के बेटे रणइंदर सिंह से संरक्षण लेकर यह काम शुरू करवा दिया है। उन्होंने गुंडा टैक्स वसूली को लेकर मांग की है कि सीबीआइ या हाईकोर्ट के मौजूदा जज से पूरे मामले की जांच करवाने की मांग भी की है।

यह भी पढ़ें: चंडीगढ़ इंटरनेशनल एयरपोर्ट: शहीद भगत सिंह के नाम पर बन सकती है सहमति

वहीं, सीबीआइ ने मुख्यमंत्री के दामाद गुरपाल सिंह पर 110 करोड़ रुपये के बैंक घोटाले को लेकर  दर्ज किया है। बजट सत्र से पहले मुख्यमंत्री के दामाद और बेटे पर लग रहे आरोपों ने विपक्ष को एक मजबूत हथियार दे दिया है। इससे कांग्रेस के लिए दिक्कतें बढ़ सकती हैं। इससे पूर्व शीत कालीन सत्र के दौरान कांग्रेस पूर्व सिंचाई मंत्री राणा गुरजीत सिंह द्वारा रेत खड्डों को लेकर घिर गई थी।

Edited By: Sunil Kumar Jha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!