जेएनएन, चंडीगढ़। पंजाब एवं हरियाणा के बीच चंडीगढ़ अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के नाम को लेकर विवाद का जल्‍द ही अंत हो सकता है। इसका नाम शहीद भगत सिंह इंटरनेशनल एयरपोर्ट रखने पर सहमति बन सकती है। यह संकेत सिविल एविएशन मंत्री पी. अशोक गजपति राजू ने दिए हैं।

देश के पहले मल्टी स्किल डेवलपमेंट सेंटर के उद्घाटन के मौके पर उन्होंने कहा कि एयरपोर्ट के नाम को लेकर हरियाणा, पंजाब और चंडीगढ़ ने अपने-अपने सुझाव दिए हैं, लेकिन शहीद भगत सिंह देश के हीरो हैं। उनके नाम पर यदि चंडीगढ़ एयरपोर्ट का नाम रखा जाता है तो किसी को कोई आपत्ति नहीं होगी। इसकी जल्द घोषणा कर दी जाएगी। सांसद प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने भी इस पर अपनी सहमति जता दी।

नांदेड़ के लिए शुरू हो सकती सीधी फ्लाइट

सिविल एविएशन मंत्री कहा कि देश में फ्लाइट्स की कनेक्टिविटी बढ़ाने पर जोर दिया जा रहा है। प्रधानमंत्री की ओर से उड़ान स्कीम शुरू की गई है, जिसका लक्ष्य 80 एयरपोट्र्स के बीच कनेक्टिविटी स्थापित करना है। इस बीच श्री आनंदपुर साहिब के सांसद प्रेम सिंह चंदूमाजरा ने चंडीगढ़ से नांदेड़ के लिए सीधी फ्लाइट की मांग की। केंद्रीय मंत्री ने आश्वासन दिया कि जैसे ही इंटरनेशनल एयरपोर्ट के रनवे की रिपेयरिंग का कार्य पूरा हो जाएगा, नांदेड के लिए फ्लाइट शुरू हो जाएगी।

यह भी पढ़ें: आखिर प्रेमी के साथ कहां गई असिस्टेंट प्रोफेसर, बना रहस्य...

कार्गो सेंटर बनने की राह खुली

सांसद चंदूमाजरा ने केंद्रीय मंत्री से कार्गो सेंटर बनाने की भी मांग की। उन्होंने कहा कि पंजाब, चंडीगढ़ और हरियाणा मे कोई बंदरगाह न होने के कारण व्यापारियों को बहुत परेशानी होती है। इसलिए एयरपोर्ट पर कार्गो सेंटर का होना बहुत जरूरी है। अगर राज्य सरकार जमीन उपलब्ध करवाती है, तो इसे बनाने पर विचार किया जा सकता है। पंजाब की तरफ से कार्गो सेंटर के लिए जल्द जमीन मुहैया करवा दी जाएगी।

यह भी पढ़ें: लुधियाना नगर निगम चुनाव में कांग्रेस की भारी बहुमत से जीत

फ्लाइट्स कनेक्टिविटी से बढ़ेंगे रोजगार के अवसर

सिविल एविएशन मंत्री ने कहा कि आने वाले कुछ सालों में भारत के एयरलाइंस में 900 नए विमान शामिल होने की उम्मीद है। यात्री एवं कार्गो विमानों में इजाफा होगा, तो विमानन क्षेत्र में कुशल कारीगरों की भी डिमांड बढ़ेगी। इसीलिए मल्टी स्किल डेवलपमेंट सेंटर खोले जा रहे हैं।

Edited By: Sunil Kumar Jha

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट

ਪੰਜਾਬੀ ਵਿਚ ਖ਼ਬਰਾਂ ਪੜ੍ਹਨ ਲਈ ਇੱਥੇ ਕਲਿੱਕ ਕਰੋ!