आनलाइन डेस्क, चंडीगढ़। बदलती लाइफस्टाइल के कारण बीमारियां भी बढ़ने लगी है। लोग अब धीरे-धीरे पुराने खान-पान की तरफ लौटने लगे हैं। पुराने खान-पान में मिलेट्स की मात्रा भरपूर होती थी, लेकिन शार्टकट खान-पान के चक्कर में वक्त के साथ-साथ इनसे दूर होने लगे। मिलेट्स के प्रति लोगों में अब जागरूकता बढ़ी है। यह चिकित्सीय गुणों से युक्त होते हैं। 

क्या होते हैं मिलेट्स

डा. खादर अली को भारत में मिलेटमैन के नाम से जाना जाता है। बकौल खादर अली इसमें कंगनी (Foxtail millet), छोटी कंगनी/हरी कंगनी (Brown top millet), कुटकी (Little millet), कोदा (Kudo millet), स्वांक/सांवा (Barnyard millet) आदि आते हैं। इन्हें मोटा अनाज भी कहा जाता है। मिलेट्स में गेहूं और चावल की तुलना में  एंजाइम, विटामिन्स और मिनरल्स की मात्रा अधिक होती है।

चिकित्सीय गुणों से युक्त हैं मिलेट्स

डा. खादर अली का कहना है कि मिलेट्स चिकित्सीय गुणों से युक्त होते हैं। चिकित्सकीय गुणों का अर्थ यह है कि शरीर में किसी पोषक तत्‍व की कमी से पैदा हुए रोग को किसी विशेष अनाज से बने भोजन को खाने से दूर किया जा सके। यह अनाज पोषक तत्व से युक्त होते हैं। इस अनाज में खाने से मानव शरीर में होने वाले रोगों या हो चुके रोगों को ठीक करने की शक्ति होती है।

शुगर की मात्रा कम

गेहूं की तुलना में मिलेट्स में शुगर की मात्रा कम होती है। यही नहीं, इनका ग्लाइसीमिक इंडेक्स लो होता है। इसमें फाइबर्स ज्यादा होते हैं। फाइबर्स आपके ब्लड शुगर स्तर को कंट्रोल रखते हैं। रक्तचाप भी इससे मेनटेन रहता है।

पोषक तत्वों की मात्रा अधिक

मिलेट्स पोषक तत्वों की मात्रा भरपूर होती है। इसमें पोटेशियम काफी मात्रा में होता है। पोटेशियम हार्ट और किडनी दोनों के लिए अच्छा माना जाता है। इसके अलावा विटामिन ए व बी भी मिलेट्स में होता है। 

वजन कम करने में भी कारगर

बदले खानपान के कारण लोगों का मोटापा भी बढ़ रहा है, जबकि मिलेट्स इसमें कारगर होते हैं। यह वजन कम करने में भी सहायक होते हैं। यह पाचन तंत्र को मजबूत करते हैं। 

हार्ट के लिए अच्छे

मिलेट्स में टैनिन्स, फ्लेवोनाइड्स, एंथोसाइनिडिन्स, टैनिन्स भरपूर मात्रा में होता है। यह शरीर से बैड कोलेस्ट्राल को कम करके हार्ट को हेल्दी रखते हैं। 

Edited By: Kamlesh Bhatt

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट