जागरण संवाददाता, मोहाली। कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए लगाई गई पाबंदियों के खिलाफ कारोबारियों ने मोर्चा खोल दिया है। ऐसे में मोहाली में जिम और फिटनेस सेंटर मालिक, ट्रेनर और अन्य कर्मचारी सड़कों पर उतर कर प्रशासन के खिलाफ प्रदर्शन करने का मन बना चुके हैं।

जिम और फिटनेस सेंटर को बंद करने के प्रशासन के आदेश के खिलाफ मोहाली के सभी जिम व फिटनेस सेंटरों के मालिकों व कर्मचारियों ने 20 जनवरी को ग्रेटर पंजाब जिम एसोसिएशन के बैनर तले गुरुद्वारा सिंह शहीदां सोहाना के सामने धरना देने की घोषणा की। बता दें कि इससे पहले चंडीगढ़ में भी जिम व फिटनेस सेंटर के मालिकों ने प्रशासन के खिलाफ रोष मार्च निकाला था।

मोहाली जिम संचालकों का कहना है कि प्रशासन ने जहां शॉपिंग मॉल, होटल, रेस्टोरेंट आदि को खोलने की अनुमति दी गई है वहीं जिम और फिटनेस सेंटरों को बंद रखने का आदेश दिया है। अगर सब कुछ खोला गया है तो जिम क्याें बंद है। होटल, बार आदि खोले जा सकते हैं तो जिम क्यों नहीं। जिम मालिकों ने कहा कि जिम और फिटनेस सेंटर के लोगों द्वारा कोरोना टीकाकरण सहित शॉपिंग मॉल और होटल और रेस्तरां जैसी शर्तों को पूरा किया जाता है, तो सिर्फ जिम और फिटनेस सेंटर को बंद रखने का क्या मतलब है।

जिम संचालकों ने कहा कि इस तरह के प्रशासनिक फैसलों से जिम और फिटनेस उद्योग पूरी तरह से तबाह हो गया है और सरकार ने उनकी मदद के लिए कुछ नहीं किया है। कर्मचारियों ने कहा कि यह तीसरी बार है जब जिम सेंटर और फिटनेस सेंटर पर जोर दिया जा रहा है। इस बार जब सब कुछ खुला है तो जिम बंद करने का कोई मतलब नहीं है । इस मौके पर धर्मपाल (डी3 जिम), आर्यन (जुनून जीरकपुर), सुखी (बारबेल), सूरज भान (एफजेड), महेंद्र (अल्टीमेट), पंकज (बर्न), प्रदीप (ऑक्टेन), तनवीर (क्लैप्स जिम), मान (ओआरएन) ), तजिंदर (ओहियो), रणधीर (शार्प), अभिनव (जस्ट), अभिषेक (अल्टीमेट) और अन्य जिम मालिक और ट्रेनर मौजूद थे।

Edited By: Ankesh Thakur