Move to Jagran APP

Punjab: भ्रष्टाचार पर मान सरकार का वार, एक साल में मंत्री की कुर्सी गई, तीन पूर्व मंत्री जेल गए

मुख्यमंत्री भगवंत मान ने दावा किया है कि ’भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन’ ने नया रिकॉर्ड कायम किया गया है। इस एक्शन लाईन के अंतर्गत बीते एक साल में 300 भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा गया है। दरअसल पंजाब सरकार ने एक साल पहले भ्रष्टाचार के खिलाफ जो हैल्पलाइन जारी की थी। शिकायत मिलने के बाद सरकार ने कई राजनेताओं के खिलाफ कार्रवाई की है।

By Jagran NewsEdited By: Gurpreet CheemaPublished: Thu, 25 May 2023 01:11 PM (IST)Updated: Thu, 25 May 2023 01:16 PM (IST)
मुख्यमंत्री भगवंत मान ने दावा किया है कि ’भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन’ ने नया रिकॉर्ड कायम किया गया है।

चंडीगढ़, राज्य ब्यूरो। भ्रष्टाचार के खिलाफ आम आदमी सरकार द्वारा शुरू गई लड़ाई का असर दिखाई दे रहा हैं। मुख्यमंत्री भगवंत मान ने दावा किया है कि ’भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाईन’ ने नया रिकॉर्ड कायम किया गया है। इस एक्शन लाईन के अंतर्गत बीते एक साल में 300 भ्रष्ट अधिकारियों और कर्मचारियों को जेल की सलाखों के पीछे भेजा गया है। दरअसल पंजाब सरकार ने एक साल पहले भ्रष्टाचार के खिलाफ जो हैल्पलाइन जारी की थी।

सलाखों के पीछे पंजाब मंत्री, नेता और अधिकारी

हेल्पलाइन पर शिकायत मिलने के बाद पंजाब सरकार ने कई राजनेताओं के खिलाफ कार्रवाई की है। इसमें पूर्व मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी, पूर्व डिप्टी मुख्यमंत्री ओपी सोनी, पूर्व पीडब्ल्यूडी मंत्री विजय इंदर सिंगला, पूर्व स्थानीय निकाय मंत्री ब्रह्म मोहिंद्रा के विरुद्ध आय से अधिक संपत्ति का मामला विजिलेंस ने दर्ज किया गया।

आम आदमी पार्टी के बठिंडा देहाती से विधायक अमित रतन, फरीदकोट से कांग्रेस के पूर्व विधायक कुशलदीप ढिल्लों और भोआ से पूर्व विधायक जोगिंदर पाल को भी जेल जाना पड़ा। इसके अलावा पूर्व मंत्री संगत सिंह गिलजियां, बरिंदरमीत सिंह पाहड़ा, नौकरशाह से राजनेता बने पूर्व विधायक कुलदीप वैद्य और सतकार कौर को भी आय से अधिक संपत्ति मामले में विजिलेंस की जांच का सामना करना पड़ रहा हैं।

डॉ विजय सिंगला ने गंवाई अपनी कुर्सी

इस हैल्पलाइन के तहत सरकार के एक मंत्री डॉ विजय सिंगला को भी अपनी कुर्सी गंवानी पड़ी थी। उनके अलावा भ्रष्टाचार के मामले में भारत भूषण आशु, सुंदर शाम अरोड़ा और साधू सिंह धर्मसोत जैसे तीन पूर्व मंत्रियों को जेल की सलाखों के पीछे जाना पड़ा। भ्रष्टाचार के खिलाफ शुरू हुई इस मुहिम के तहत जहां राजनेताओं पर मामले दर्ज किए गए है तो वहीं,आईएएस अधिकारी संजय पोपली और पीपीएस अधिकारी आशीष कपूर को भी जेल जाना पड़ा है। ड्रग्स मामले में फंसे पीपीएस अधिकारी राजजीत सिंह को भी सरकार ने बर्खास्त कर दिया।

भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम से निकली 'आप'

मुख्यमंत्री भगवंत मान का कहना है कि आम आदमी पार्टी भ्रष्टाचार विरोधी मुहिम के तहत बनाई गई पार्टी है। इसलिए पंजाब को भी भ्रष्टाचार से मुक्त करने के लिए कोशिशें की जा रही हैं। उन्होंने कहा कि कार्यकाल संभालने के पहले दिन से ही भ्रष्टाचारियों के साथ कोई नरमी न बरतने की नीति अपनाई गई। बहुत गौरव और संतोष की बात है कि एक साल पहले आज के दिन शुरू की भ्रष्टाचार विरोधी एक्शन लाइन से अच्छे रिजल्ट देखने को मिले हैं।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.