चंडीगढ़, जेएनएन। चंडीगढ़ में कोरोना का टीका लगवाने में पुलिसकर्मी को दिलचस्पी न दिखाना भारी पड़ेगा। एसएसपी कुलदीप चहल के आदेशानुसार 26 फरवरी तक प्रत्येक अफसर और मुलाजिम को टीकाकरण करवाना अनिवार्य कर दिया गया है। टीकाकरण के दिन पुलिस अस्पताल नहीं पहुंचने वाले मुलाजिमों के खिलाफ अनुशासनात्मक कार्यवाही की जाएगी। टीकाकरण कराने वाले मुलाजिम की एंट्री और हस्ताक्षर करवाने के बाद नाम आला अफसरों तक भेजने की जिम्मेदारी उनके नोडल आफिसर की तय की गई है।

यह भी पढ़ें -   Crime in Chandigarh: पड़ोसी ने चार साल की मासूम के साथ किया दुष्कर्म, अदालत ने आरोपित को भेजा जेल

विभाग में तकरीबन 6900 अफसर और मुलाजिमों का टीकाकरण होना है। जबकि अभी तक 610 लोगों ने टीकाकरण करवाया है। तीन फरवरी से इन सभी मुलाजिमों का सेक्टर-26 स्थित पुलिस लाइन अस्पताल में टीकाकरण चल रहा है। रोजाना औसतन 50 से 60 मुलाजिमों को उनके मोबाइल पर टीका लगवाने का मैसेज भेजा जा रहा है। इसके साथ ही उन्हें फोन पर रिमाइंडर भी करवाया जा रहा है, बावजूद इसके मुलाजिम टीकाकरण में दिलचस्पी नहीं दिखा रहे हैं।

यह भी पढ़ें -   चंडीगढ़ के अस्पतालों में रक्त की कमी दूर करने के लिए आगे आई विश्वास फाउंडेशन

208 पुलिसकर्मी हुए थे संक्रमित

कोरोना काल के दौरान कुल 208 पुलिसकर्मी संक्रमित हुए थे। इनमें एसपी सिटी विनीत कुमार, डीएसपी दिलशेर सिंह चंदेल, डीएसपी राजीव अंबास्ता, इंस्पेक्टर हरिंदर सिंह सेखों, दिलबाग सिंह समेत कुल 208 पुलिसकर्मी शामिल थे। साथ ही कोरोना प्रकोप से शहर के थाने, पुलिस चौकी, अपराध शाखा, सेक्टर-26 पुलिस लाइन, पुलिस बीट बॉक्स समेत अन्य विंग भी अछूते नहीं थे।

इस वजह से मलोया थाना, सेक्टर-61 पुलिस चौकी, पंजाब विश्वविद्यालय पुलिस बीट बॉक्स व सेक्टर-26 पुलिस लाइन, सेक्टर-9 पुलिस मुख्यालय को सील कर दिया गया, बावजूद इसके पुलिसकर्मी आए दिन कोरोना संक्रमित होते रहे हैं।

पंजाब की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें 

हरियाणा की ताजा खबरें पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप