Move to Jagran APP

'लोकतंत्र का हत्यारा.. अहंकारी...', Vijay Kumar Sinha ने कभी नीतीश के लिए कहे थे ये शब्द; डिप्टी CM पद की ली शपथ

पिछले कई दिनों से चल रहे बिहार में सियासी रस्साकशी रविवार को नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद थम गया। इस बीच बिहार में एनडीए के साथ नई सरकार बनाने का एलान किया गया। इसमें नीतीश कुमार मुख्यमंत्री तो वहीं भाजपा से दो नेताओं को डिप्टी सीएम बनाने की तैयारी है। पहला नाम बिहार भाजपा प्रदेश अध्यक्ष सम्राट चौधरी का है तो वहीं दूसरा नाम विजय सिन्हा का है।

By Shashank ShekharEdited By: Shashank ShekharPublished: Sun, 28 Jan 2024 03:30 PM (IST)Updated: Sun, 28 Jan 2024 05:26 PM (IST)
'लोकतंत्र का हत्यारा.. अहंकारी...', Vijay Kumar Sinha ने कभी नीतीश के लिए कहे थे ये शब्द;

डिजिटल डेस्क, पटना। पिछले कई दिनों से चल रहे बिहार में सियासी रस्साकशी रविवार को नीतीश कुमार के इस्तीफे के बाद थम गया। इस बीच बिहार में एनडीए के साथ नई सरकार बना लिया है।

इसमें नीतीश कुमार मुख्यमंत्री तो वहीं, भाजपा से दो नेताओं को डिप्टी सीएम बनाया गया है। सम्राट चौधरी और  विजय सिन्हा को डिप्टी सीएम बनाया गया है।

पिछली बार भाजपा ने बिहार में पिछड़ी समुदाय से आने वाले तारकेश्वर प्रसाद और रेणु देवी को डिप्टी सीएम बनाया था। इस बार भाजपा ने बड़ा बदलाव किया है और अगड़ी जाति से आने वाले विजय सिन्हा और पिछड़ी जाति से आने वाले सम्राट चौधरी को डिप्टी सीएम बनाया गया है।

आइए जानते हैं विजय सिन्हा का राजनीतिक करियर

विजय सिन्हा बिहार की राजनीति के चर्चित चेहरे हैं। उनका जन्म 05 जून 1967 को बिहार के लखीसराय जिले के तिलकपुर में हुआ था। बचपन से ही विजय सिन्हा का जुड़ाव राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ रहा है। उन्होंने 1988 में अपना सियासी सफर शुरू किया था।

उन्हें बिहार बेरोजगार कनीय अभियंता संघ का महासचिव बनाया गया था। वहीं, 1988 में ही बिहार की राजधानी पटना के राजेन्द्र नगर मंडल वार्ड -18 से कार्यकारी अध्यक्ष चुना गया।

साल 2000 में विजय सिन्हा को भारतीय जनता युवा मोर्चा के प्रदेश संगठन के प्रभारी की जिम्मेदारी मिली थी। विजय सिन्हा 2004 में भाजपा के प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य चुने गए। 2006 में उन्हें बिहार भाजपा के किसान मोर्चा के प्रदेश मंत्री बनाया गया। वहीं, 2009 में बेगूसराय और खगड़िया का प्रभारी बनाया गया।

2013 और 2015 में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता बने

इसके बाद विजय सिन्हा 2013 और 2015 में भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश प्रवक्ता बनाया गया। वह अपने राजनीति करियर की शुरुआत से लेकर यानि 1985 से लेकर 2005 तक सरकार की जनविरोधी कार्यों और नीतियों के खिलाफ मुखर होकर राजनीतिक स्तर पर संघर्ष किया।

विजय सिन्हा लखीसराय सीट से 2000, 2005 और 2010 में विधान सभा चुनाव जीत चुके हैं। 2020 में चुनाव के बाद भाजपा ने पहली बार बिहार विधानसभा अध्यक्ष बनाया। वहीं, 2017 से लेकर 2020 तक श्रम संसाधन विभाग में मंत्री रहे।

विजय सिन्हा का निजी जीवन

05 जून, 1967 को लखीसराय में जन्मे विजय सिन्हा के माता-पिता का नाम स्व. सूरमा देवी और स्व. शारदा रमण सिंह हैं। उन्होंने बेगूसराय राजकीय पॉलिटेक्निक से सिविल इंजीनियंरिग में डिप्लोमा किया।

उनकी शादी 08 जून 1986 को सुशीला देवी के साथ हुई थी। इस जोड़े से दो बेटे और दो बेटी हैं। विजय सिन्हा की पत्नी ने भी महिला देवी पॉलिटेक्निक पटना से डिप्लोमा कर रखी हैं।

ये भी पढ़ें: कभी लालू के रहे खास... अब नीतीश सरकार में बनेंगे डिप्टी CM, यहां पढ़ें सम्राट चौधरी का कैसा रहा राजनीतिक करियर

ये भी पढ़ें: Bihar Politics: 'अब राजनीतिक अवसरवाद का अंत होना चाहिए...', Nitish Kumar के इस्तीफे पर ऐसा क्यों बोले BJP सांसद दिलीप घोष


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.