कोच्चि, एजेंसियां: कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बुधवार को यह दावा करते हुए भाजपा और केंद्र सरकार पर तीखा हमला किया कि नोटबंदी और जीएसटी नरेन्द्र मोदी सरकार की गलतियां नहीं, बल्कि छोटे व्यवसायों को नष्ट करने और कुछ चुनिंदा बड़े उद्योगपतियों को लाभ पहुंचाने के लिए 'सोच समझ कर' उठाए गए कदम थे।

कांग्रेस महासिचव (संचार) जयराम रमेश ने कहा कि सूचना प्रौद्योगिकी (आइटी) और सूक्ष्म, लघु और मध्यम उद्यम (एमएसएमई) क्षेत्रों के प्रतिनिधियों के साथ कांग्रेस नेता राहुल गांधी के संवाद के दौरान, उनसे इन दो आर्थिक कदमों के बारे में सवाल किए गए थे। रमेश ने कहा, राहुल गांधी ने इस पर प्रतिक्रिया जताते हुए नोटबंदी और जीएसटी को एमएसएमई क्षेत्र को नष्ट करने के लिए मोदी सरकार का 'जानबूझकर किया गया प्रयास' बताया।

भारत जोड़ो यात्रा के दौरान अलुवा के परवूर जंक्शन पर बुधवार की यात्रा की समाप्ति के बाद लोगों को संबोधित करते हुए राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री मोदी आम लोगों से पैसे लेकर अपने कुछ खास अमीर मित्रों को दे रहे हैं। उन्होंने कहा कि नोटबंदी और जीएसटी के अलावा कोरोना लाकडाउन का भी छोटे उद्यमों, श्रमिकों, किसानों और समाज के वर्गों पर प्रतिकूल प्रभाव पड़ा।

अदाणी पर भी किया प्रहार

राहुल गांधी ने देश के प्रमुख उद्योगपति गौतम अदाणी पर भी निशाना साधा। उन्होंने कहा कि अदाणी देश में जिस किसी भी व्यवसाय पर चाहें, एकाधिकार कर सकते हैं। अदाणी का नाम लिए बिना कांग्रेस नेता ने कहा कि दुनिया का दूसरा सबसे अमीर व्यक्ति भारत से है और पूछा कि उन्हें व्यवसाय खड़ा करने के लिए कौन पैसे दे रहा है। राहुल गांधी इन दिनों कांग्रेस की डूबती नाव को बचाने के लिए भारत जोड़ो यात्रा निकाल रहे हैं। जिसमें पार्टी को लेकर लोगों के बीच जागरुकता फैलाने का काम करने के साथ देश की केंद्र सरकार पर भी लगातार निशाना साध रहे हैं।

Edited By: Amit Singh