नई दिल्ली, जेएनएन।  केंद्रीय मंत्री थावरचंद गहलोत को राज्यसभा में सदन का नेता नियुक्त किया गया। आधिकारिक सूत्रों ने मंगलवार को यह जानकारी दी। गहलोत भाजपा के वरिष्ठ नेता व पीएम नरेंद्र मोदी की पहली सरकार में वित्त मंत्री रहे अरुण जेटली की जगह लेंगे।

जेटली इस बार स्वास्थ्य कारणों से मंत्रिमंडल में शामिल नहीं हुए हैं। सामाजिक न्याय व अधिकारिता मंत्री गहलोत अनुभवी सांसद होने के साथ-साथ भाजपा का दलित चेहरा भी हैं। राज्यसभा में बतौर नेता उनकी नियुक्ति का फैसला केंद्र की सत्ता में काबिज भाजपा ने लिया है। करीब चालीस साल तक विधायक रहे 71 वर्षीय गहलोत लोकसभा के साथ-साथ राज्यसभा के भी सदस्य रह चुके हैं।

मोदी सरकार के पहले कार्यकाल 2014 में भी थावर चंद गहलोत सामाजिक न्याय और सशक्तीकरण मामलों के मंत्री रह चुके हैं। मंत्री के तौर पर थावर चंद गहलोत ने समाजिक तौर पर पिछड़े, समाज के वंचित तबके और दिव्यांग लोगों के लिए कई लाभदायक स्कीम को ड्राफ्ट कर चुके हैं।

अरुण जेटली स्वास्थ्य की वजह से पिछले कुछ महीनों से राजनीतिक रूप से सक्रिय नहीं है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की कैबिनेट में वित्त मंत्रालय संभाल रहे अरुण जेटली ने शपथग्रहण से पहले ही खत लिखकर ऐलान किया था कि स्वास्थ्य कारणों से उनका पद पर बने रहना संभव नहीं है। उन्होंने पीएम मोदी से अपील की थी कि उन्हें मंत्रिमंडल का हिस्सा दोबारा न बनाया जाए।

थावर चंद गहलोत का जन्म 18 मई 1948 को मध्य प्रदेश के उज्जैन जिले के नागदा गांव में हुआ था। इन्होंने उज्जैन की ही विक्रम विश्वविद्यालय से स्नातक की पढ़ाई की।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sanjeev Tiwari