जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। अखिल भारतीय मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआइएमआइएम) के प्रमुख और हैदराबाद से लोकसभा सांसद असदुद्दीन ओवैसी पर गोली चलाए जाने की घटना पर सोमवार को केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह सदन में वक्तव्य देंगे। उससे पहले शुक्रवार को ओवैसी ने सरकार की ओर से दी गई जेड कैटेगरी सुरक्षा स्वीकार करने से मना करते हुए खुद पर गोली चलाने वालों के खिलाफ गैरकानूनी गतिविधि रोकथाम कानून (यूएपीए) के तहत कार्रवाई की मांग की।

बुधवार को उत्तर प्रदेश में रैली से दिल्ली लौटते हुए ओवैसी पर हमला हुआ था। हालांकि पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन ओवैसी की मांग है कि अपराधियों पर सख्त कानून लगने चाहिए। लोकसभा में प्रश्न उठाते हुए ओवैसी ने कहा कि देश में कट्टरता बढ़ रही है। सरकार को इसका इंतजाम करना चाहिए। वह जिंदा रहना चाहते हैं, बोलना चाहते हैं, लोगों के लिए काम करना चाहते हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से दी गई जेड कैटेगरी सुरक्षा उन्हें नहीं चाहिए। दोषियों पर सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

सदन में मौजूद केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पीयूष गोयल ने ओवैसी की लंबी आयु की कामना करते हुए कहा कि दोषियों को पकड़ा गया है। कानून अपना काम करेगा। उन्होंने ही जानकारी दी कि सोमवार को गृहमंत्री इस मुद्दे पर वक्तव्य देंगे। माना जा रहा है कि तब तक पुलिस भी कुछ और जानकारी एकत्र कर लेगी।

दो आरोपियों को किया गया गिरफ्तार

बता दें कि ओवैसी के काफिले पर फायरिंग करने के आरोप में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के अनुसार, उन्होंने पूछताछ के दौरान कहा है कि वे ओवैसी की एक विशेष धर्म के खिलाफ टिप्पणी से आहत थे।

ओवैसी ने कल रात अपनी सफेद एसयूवी पर दो गोली के निशान दिखाते हुए फोटो ट्वीट की थी। तीसरी गोली एक टायर में लगी थी। सांसद ने कहा कि उन्हें कोई नुकसान नहीं हुआ है और वे दूसरी कार में वहां से चले गए।

ओवैसी और उनके भाई के टिप्पणियों से नाराज थे हमलावर

आरोपियों में से एक नोएडा का रहने वाला सचिन है, जिस पर पहले भी हत्या के प्रयास का मामला दर्ज है। जबकि उसने दावा किया है कि उसके पास कानून की डिग्री है, पुलिस इसकी पुष्टि कर रही है। पुलिस ने कहा कि अपने फेसबुक प्रोफाइल में सचिन का कहना है कि वह एक हिंदू दक्षिणपंथी संगठन का सदस्य है, उन्होंने कहा कि वे दावे की जांच कर रहे हैं। दूसरा आरोपी सहारनपुर का रहने वाला शुभम है, जिसका कोई आपराधिक रिकार्ड नहीं है। पुलिस के अनुसार, दोनों ने पूछताछ के दौरान उनसे कहा कि वे ओवैसी और उनके भाई और विधायक अकबरुद्दीन ओवैसी की टिप्पणी से नाराज हैं।

गौरतलब है कि एआइएमआइएम अध्यक्ष असदुद्दीन ओवैसी गुरुवार को चुनाव प्रचार के लिए उत्तर प्रदेश के मेरठ में थे। उत्तर प्रदेश की 403 विधानसभा सीटों के लिए सात चरणों में 10 फरवरी से 7 मार्च तक चुनाव होंगे। मतों की गिनती 10 मार्च को होगी।

Edited By: Dhyanendra Singh Chauhan

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट