नई दिल्ली, एएनआइ। PM Modi Rajya Sabha Speech, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी  ने आज राज्यसभा को संबोधित किया। पीएम मोदी ने राज्यसभा के 250वें सत्र के मौके पर आज यहां सदन में एक विशेष चर्चा के दौरान संबोधित किया। इस दौरान उन्होंने सदन को संबोधित करते हुए कहा कि विविधता में एकता ही इसकी ताकत है। साथ ही उन्होंने सदन के ऐतिहासिक महत्व को भी दर्शाया।

PM Modi Rajya Sabha Speech Highlights:

NCP और बीजेडी की तारीफ

पीएम नरेंद्र मोदी ने राज्यसभा में एनसीपी और बीजेडी की तारीफ की। उन्होंने कहा कि उनके सांसद कभी वेल में नहीं जाते हैं और ऐसा नियम उन्होंने खुद के लिए बनाया है। पीएम मोदी ने कहा कि अटल विहारी वाजपेयी जी ने 2003 में राज्यसभा के 200वें सत्र के दौरान कहा था कहा था कि किसी को भी हमारे सेकंड हाउस को सेकंडरी हाउस बनाने की कोशिश नहीं करनी चाहिए।

'देश को चलाने का आधार है यह सदन'

पीएम मोदी ने कहा कि ऐसे कई महत्वपूर्ण बिल यहां पास हुए, जो देश को चलाने का आधार बने। मेरे लिए बड़े सौभाग्य की बात है कि ऐसे कई महत्वपूर्ण फैसलों में शामिल होने का मुझे मौका मिला। इसी सदन ने सामान्य परिवार के गरीबों के लिए 10% आरक्षण पास किया। राज्यसभा ने 3 तलाक बिल पास कर महिलाओं के सशक्तिकरण का काम किया।इस देश को दिशा देने का काम इस सदन ने पहले कियास बाद में लोकसभा ने ये काम किया।

'इस सदन ने इतिहास को मोड़ा'

सदन के 250वें सत्र पर चर्चा के दौरान राज्यसभा में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने संबोधन में कहा कि यह मेरे लिए सौभाग्य की बात है कि इस महत्वपूर्ण अवसर का साक्षी बनने का मुझे मौका मिला है। पीएम ने कहा कि इस सदन ने कई ऐतिहासिक क्षण देखे हैं और इतिहास बनाया भी है। इतना ही नहीं जरूरत पड़ने पर इतिहास को मोड़ा भी है।

'राज्यसभा की विविधता इसकी एकता'

पीएम मोदी ने कहा कि स्थायितिव और विविधता इस सदन की विशेषता है। लोकसभा भंग होती है लेकिन राज्यसभा न कभी भंग होती है और ना कभी होना है। उन्होंने अपने संबोधन में कहा कि यहां राज्यों का प्रतिनिधित्व भी तय है। इसलिए यहां विविधता भी है। प्रधानमंत्री ने कहा कि राज्यों का प्रतिनिधित्व ही यहां प्राथमिकता है। भारत की विविधता, भारत की अनेकता में एकता का जो सूत्र है, वह इस सदन में नजर आता है।

सांसदों को दी बधाई

पीएम मोदी ने कहा कि  250वें सत्र के दौरान यहां उपस्थित सभी सांसदों को मैं बधाई देता हूं। 250 सत्रों की यह जो यात्रा चली है। इस यात्रा में जिन-जिन सांसदों ने योगदान दिया है, वो सभी अभिनंदन के पात्र हैं। मैं उनका आदरपूर्ण स्मरण करता हूं। पीएम मोदी ने कहा कि 250 सत्र, ये समय ऐसे ही नहीं व्यतीत हुआ है, ये वैचारिक यात्रा रही है। समय और परिस्थियां बदलती गईं और सदन ने बदलती हुई परिस्थितियों को आत्मसाक्त करते हुए अपने को ढालने का प्रयास किया। इसके लिए सदन के सभी सदस्य बधाई के पात्र हैं।

मानसून सत्र की शुरुआत से पहले क्या बोले PM मोदी

इससे पहले पीएम मोदी ने आज संसद के मानसून सत्र की शुरुआत से पहले कहा कि यह इस साल का आखिरी और महत्वपूर्ण सत्र रहने वाला है। उन्होंने इस दौरान कहा कि हम सभी मुद्दों पर विपक्ष के साथ एक सार्थक चर्चा चाहते हैं। उन्होंने कहा कि संसद में मुद्दों पर वाद-विवाद हो, हम हर चर्चा के लिए तैयार हैं लेकिन उस बीच संवाद बने रहना चाहिए।

Posted By: Shashank Pandey

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस