Move to Jagran APP

PM Kisan Yojana: 'आप क्रोनोलॉजी समझिए…', कांग्रेस ने कहा- पीएम सम्मान निधि जारी कर प्रधानमंत्री ने नहीं किया कुछ विशेष काम

कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Yojana) जारी करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों के लिए कुछ विशेष नहीं किया है। कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि सम्मान निधि की 17वीं किस्त जारी करना सरकार की अपनी नीति के अनुसार है जिसे प्रधानमंत्री मोदी अपनी नई सरकार का पहला निर्णय बता रहे हैं और इसका बड़ा दिखावा किया।

By Agency Edited By: Sonu Gupta Published: Tue, 11 Jun 2024 12:12 AM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 12:12 AM (IST)
पीएम सम्मान निधि जारी कर पीएम ने कुछ विशेष नहीं किया : कांग्रेस जयराम रमेश। फाइल फोटो।

पीटीआई, नई दिल्ली। कांग्रेस ने सोमवार को कहा कि पीएम किसान सम्मान निधि (PM Kisan Yojana) जारी करके प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने किसानों के लिए कुछ विशेष नहीं किया है। चुनाव आचार संहिता की वजह से इसकी किस्त जारी करने में एक माह का विलंब हुआ है।

किस्त जारी करना सरकार की अपनी नीति के अनुसार

कांग्रेस महासचिव जयराम रमेश ने कहा कि सम्मान निधि की 17वीं किस्त जारी करना सरकार की अपनी नीति के अनुसार है, जिसे प्रधानमंत्री मोदी अपनी नई सरकार का पहला निर्णय बता रहे हैं और इसका बड़ा दिखावा किया।

जयराम रमेश ने क्या कहा?

जयराम रमेश ने एक्स पर कहा कि आप क्रोनोलाजी समझिए: पीएम किसान निधि की 16वीं किस्त जनवरी, 2024 में मिलने वाली थी, लेकिन प्रधानमंत्री के चुनावी गणित के कारण इसमें एक महीने की देरी हो गई... पीएम किसान निधि की 17वीं किस्त अप्रैल/मई, 2024 में मिलने वाली थी, लेकिन आदर्श आचार संहिता लागू होने के कारण इसमें देरी हो गई।

पीएम मोदी ने नहीं किया किसी का भलाः रमेश

उन्होंने कहा कि एक तिहाई प्रधानमंत्री ने इस फाइल पर हस्ताक्षर करके किसी का भला नहीं किया है। ये उनकी सरकार की नीति के अनुसार किसानों का वैध अधिकार है। उन्होंने नियमित प्रशासनिक निर्णयों को बड़े उपहार में बदलने की आदत बना ली है। स्पष्ट रूप से वह अभी भी खुद को जैविक नहीं, बल्कि दिव्य मानते हैं।

यह भी पढ़ेंः

Manipur Violence: 'मणिपुर में एक साल बाद भी शांति नहीं…', संघ प्रमुख बोले- राज्य की स्थिति पर हो गंभीरता से विचार

राज्यपाल आरिफ मोहम्मद खान ने 'लोक केरल सभा' के निमंत्रण को किया अस्वीकार, सरकार के इस कदम पर उठाया सवाल


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.