Move to Jagran APP

अजित से क्या शरद पवार लेंगे बेटी के चुनाव का बदला? कार्यकर्ताओं की मांग से बढ़ी सियासी हलचल

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बारामती सीट पर अजित पवार की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। एनसीपी (शरद पवार) के कार्यकर्ताओं ने पार्टी अध्यक्ष शरद पवार से युगेंद्र पवार को यहां से विधानसभा चुनाव लड़ाने की अपील की है। युगेंद्र अजित पवार के छोटे भाई श्रीनिवास के बेटे हैं। लोकसभा चुनाव में युगेंद्र ने शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले का साथ दिया था।

By Jagran News Edited By: Ajay Kumar Published: Tue, 11 Jun 2024 04:31 PM (IST)Updated: Tue, 11 Jun 2024 05:28 PM (IST)
Maharashtra News: शरद और अजित पवार। (फोटो- फाइल)

पीटीआई, पुणे। राष्ट्रवादी कांग्रेस (एनसीपी- शरद पवार) के कार्यकर्ताओं के एक समूह ने मंगलवार को पार्टी प्रमुख शरद पवार से अपने पोते युगेंद्र पवार को बारामती से चुनाव लड़ाने का अनुरोध किया। यह प्रतिद्वंद्वी एनसीपी प्रमुख और महाराष्ट्र के उपमुख्यमंत्री अजित पवार का विधानसभा क्षेत्र है।

बता दें कि लोकसभा चुनाव में अजित पवार ने अपनी पत्नी सुनेत्रा पवार को शरद पवार की बेटी सुप्रिया सुले के खिलाफ उतारा था। हालांकि दिलचस्प मुकाबले में सुप्रिया सुले ने जीत दर्ज की थी। अब देखना यह होगा कि महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में क्या शरद पवार भी अजित के खिलाफ परिवार के सदस्य को उतार बड़ा दांव खेलेंगे? 

यह भी पढ़ें: उद्धव ठाकरे पर डोरे डाल रही बीजेपी? कहा- लोकसभा चुनाव में पूर्व सीएम ने की कड़ी मेहनत, लेकिन...

कौन हैं युगेंद्र?

युगेंद्र अजित पवार के छोटे भाई श्रीनिवास पवार के बेटे हैं। श्रीनिवास ने लोकसभा चुनाव के दौरान चाचा शरद पवार का साथ दिया था और सुनेत्रा को सुप्रिया सुले के खिलाफ चुनाव में उतारने पर अजित की आलोचना की थी। मंगलवार को शरद पवार बारामती पहुंचे। एक वीडियो में पार्टी कार्यकर्ताओं का एक समूह शरद पवार से युगेंद्र का समर्थन करने का आग्रह करता दिखाई दे रहा है।

कार्यकर्ता बोला- दादा को बदलना चाहते

एक कार्यकर्ता ने कहा कि कि वे 'दादा' को "बदलना" चाहते हैं। महाराष्ट्र में अजित और युगेंद्र दोनों को 'दादा' (बड़ा भाई) कहा जाता है। एक अन्य पार्टी कार्यकर्ता ने कहा, "हमारी इच्छा है कि दादा (युगेंद्र पवार) को उम्मीदवार बनाया जाना चाहिए", जबकि दूसरे कार्यकर्ता ने पवार से कहा कि वे "युगेंद्र को ताकत दें" क्योंकि वे उनका समर्थन करते हैं। एक कार्यकर्ता ने कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान उनके काम को देखते हुए उन्हें बारामती से टिकट दिया जाना चाहिए।

यह भी पढ़ें: मोदी के मंत्रिमंडल में साउथ पर फोकस : अकेले इस राज्‍य से पांच को बनाया मंत्री; सौंपे वित्त समेत चार अहम मंत्रालय


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.