बंगलुरू, एएनआइ। कर्नाटक में सियासी खींचतान थमने का नाम नहीं ले रही है। अब कांग्रेस नेता रामलिंगा रेड्डी (Ramalinga Reddy) ने कहा है कि आप किसी एक पक्ष को मक्खन और दूसरे पक्ष को चूना नहीं लगा सकते... मैंने कभी विपक्ष के लिए लॉबिंग नहीं की... लेकिन पोर्टफोलियो के आवंटनों में साफगोर्इ होनी चाहिए। अन्याय के खिलाफ आवाज नहीं उठाना भी गलत है, इसलिए मैंने अपनी बात रखी है।  

उधर, कांग्रेस नेता रोशन बेग ने कहा कि वह पार्टी के अनुशासित सिपाही हैं। उन्होंने कहा कि मैंने प्रदेश पार्टी नेतृत्व के खिलाफ एक शब्द भी नहीं बोला है। राज्य में क्या हो रहा है,  इसे देखकर भी वह मूक दर्शक नहीं रह सकते। उन्होंने आरोप लगाया कि रामलिंगा और मेरे जैसे पार्टी के वरिष्ठ नेताओं को दरकिनार किया जा रहा है।

बता दें कि इस साल हुए लोकसभा चुनाव में राज्‍य की 28 लोकसभा सीटों में से भाजपा ने 25 सीटों पर जीत दर्ज की थी जबकि कांग्रेस और जेडीएस को एक-एक सीटों पर जीत हासिल हुई थी। कांग्रेस-जेडीएस गठबंधन की करारी हार के बाद प्रदेश कांग्रेस नेताओं के असंतोष बाहर आ रहे हैं। अभी कुछ ही दिन पहले कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रोशन बेग (Roshan Baig) ने पार्टी पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा था कि कांग्रेस ने अल्‍पसंख्‍यकों का केवल इस्‍तेमाल किया है। 

इस बीच केंद्रीय मंत्री और भाजपा नेता डीवी सदानंद गौड़ा ने कहा है कि यदि कर्नाटक में जदएस-कांग्रेस गठबंधन सरकार खुद से गिरती है तो सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते भाजपा विकल्प देने की कोशिश करेगी। उन्होंने दावा किया कि विकास के रास्ते में राजनीति बाधा नहीं आने दी जाएगी। हालांकि उन्‍होंने इन आरोपों को भी खारिज किया कि भाजपा गठबंधन सरकार गिराने की कोशिश कर रही है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021