बेंगलुरु, प्रेट्र। कर्नाटक में कांग्रेस बुधवार को उस समय मुश्किल में नजर आई, जब पार्टी के मीडिया समन्वयक एमए सलीम और पूर्व लोकसभा सदस्य वीएस उग्रप्पा के बीच उस बातचीत का वीडियो वायरल हो गया, जिसमें पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डीके शिवकुमार के एक घोटाले में कथित रूप से शामिल होने का जिक्र करते हुए दोनों मजा लेते दिख रहे हैं। शिवकुमार उस समय राज्य में मंत्री थे।वायरल हुई क्लिप पर आपत्ति जताते हुए, शिवकुमार ने कहा कि वे इस बात से इन्कार नहीं कर सकते कि सलीम और उग्रप्पा के बीच बातचीत नहीं हुई, पर उन्होंने बातचीत की सामग्री को खारिज कर दिया।उधर पार्टी ने त्वरित कार्रवाई करते हुए, सलीम को छह साल के लिए पार्टी से निकाल दिया और पार्टी प्रवक्ता उग्रप्पा को 'कारण बताओ नोटिस' जारी कर तीन दिन में स्पष्टीकरण मांगा है।

बातचीत संभवत: सिंचाई विभाग में हुए कथित घोटालों से संबंधित है, जिसमें शिवकुमार कथित रूप से शामिल थे। उस समय वे कांग्रेस-जनता दल (एस) गठबंधन की सरकार में सिंचाई मंत्री थे। तत्कालीन सरकार 14 महीने तक चलने के बाद जून 2019 में गिर गई थी।इस मामले में उग्रप्पा ने स्पष्ट किया कि सलीम केवल उन्हें बता रहे थे कि भाजपा के लोग सिंचाई और राजमार्ग परियोजना के तीन प्रमुख ठेकेदारों के खिलाफ सात अक्टूबर से आयकर विभाग कर्नाटक और महाराष्ट्र सहित चार राज्यों के 47 परिसरों में मारे गए छापों के बारे में क्या बात कर रहे हैं। उल्लेखनीय है आयकर विभाग ने मंगलवार को एक बयान में कहा कि तलाशी में लगभग 750 करोड़ रुपये की अघोषित आय का पता चला है। मंगलवार को उग्रप्पा की प्रेस कांफ्रेंस से कुछ मिनट पहले सलीम उनके बगल में बैठे और घोटालों के बारे में फुसफुसाने लगे।

वीडियो में सलीम को यह कहते हुए सुना जा सकता है कि पहले, यह आठ प्रतिशत (कमीशन) था। उसने इसे बढ़ाकर 12 प्रतिशत कर दिया। ये सब डीकेएस द्वारा किया गया। सलीम को यह कहते हुए सुना जा सकता है, 'यह (सिंचाई) एक बड़ा घोटाला है। अगर ठीक से जांच हो तो उनकी (डीके शिवकुमार) भूमिका भी सामने आ जाएगी। आप नहीं जानते, साहब, तीनों ठेकेदारों ने 50 से 100 करोड़ रुपये कमाए। अगर उन्होंने इतना (धन का) कमाया, तो अंदाजा लगाइए कि उसने (शिवकुमार ने) कितना कमाया होगा। वह एक संग्रह गिराकी (जबरन वसूली करने वाला) है।'

जवाब में उग्रप्पा ने कहा कि वे इन बातों को नहीं जानते। हम सभी ने उन्हें (शिवकुमार) प्रदेश अध्यक्ष बनाने का रास्ता बनाया। इसलिए मैं कुछ नहीं कह रहा हूं। इसके अलावा, सलीम ने कहा कि शिवकुमार इन दिनों हकलाते हैं। शायद लो ब्लड प्रेशर या किसी और कारण से ऐसा हो सकता है। इस पर उग्रप्पा सहमत हो गए। सलीम ने शिवकुमार के इन दिनों शराब पीकर भावुक होने का भी जिक्र किया। इस मामले में भाजपा प्रदेश प्रवक्ता तेजस्विनी गौड़ा ने कहा कि शिवकुमार ने आयकर और प्रवर्तन निदेशालय के छापे के बाद पीएम नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह के खिलाफ निराधार बयान दिये थे। लेकिन अब उनकी पार्टी के लोग पार्टी कार्यालय में उनके खिलाफ बोल रहे हैं। गौड़ा के साथ प्रेस कांफ्रेंस में मौजूद एक अन्य भाजपा प्रवक्ता चलवाडी एन स्वामी ने कहा कि इस नाटक के पीछे सिद्धारमैया का हाथ है। वे उग्रप्पा के जरिये शिवकुमार की पोल खोल रहे हैं।

Edited By: Shashank Pandey