भोपाल, एएनआइ। रतलाम-झाबुआ लोकसभा सीट से भाजपा प्रत्याशी गुमान सिंह डामोर ने पाकिस्तान के संस्थापक मोहम्मद अली जिन्ना की तारीफ में कसीदे पढ़ दिए। उन्होंने देश के पूर्व प्रधानमंत्री जवाहर लाल नेहरू पर देश के विभाजन का ठीकरा फोड़ते हुए कहा कि आजादी के समय अगर नेहरू जिद नहीं करते, तो इस देश के दो टुकड़े नहीं होते। मो. जिन्ना एक वकील, एक विद्वान व्यक्ति, अगर उस वक्त फैसला लिया होता कि हमारा पीएम मो. जिन्ना बनेगा, तो इस देश के टुकड़े नहीं होते। एक जनसभा को संबोधित करते हुए गुमान सिंह ने यह कहा कही।

इससे पहले मध्यप्रदेश के छिंदवाड़ा में शत्रुघ्न सिन्हा ने भी जिन्ना को देश की आजादी का नायक बता दिया था और कहा था कि कांग्रेस पार्टी महात्मा गांधी से लेकर सरदार पटेल से लेकर जिन्ना से लेकर नेहरू, इंदिरा, राजीव गांधी से लेकर राहुल गांधी से लेकर नेताजी सुभाष चंद्र बोस की पार्टी है। सिन्हा ने कहा कि इन सभी का देश के विकास में सबसे महत्वपूर्ण और सबसे बड़ा योगदान था, इसलिए हम यहां पर आए हैं।

बयान के बाद बवाल मचा तो बिहारी बाबू ने सफाई दी। सिन्हा ने कहा कि वो तो मेरी जुबान फिसल गई थी। मुझे मौलाना आजाद कहना था और मैं मोहम्मद अली जिन्ना कह गया। बता दें कि भाजपा ने इसे लेकर शत्रुघ्न सिन्हा पर जमकर हमला बोला था। अब ये देखना दिलचस्प होगा कि भाजपा प्रत्याशी गुमान सिंह डामोर के ऊपर पार्टी का क्या बयान आता है।

बता दें कि मोहम्मद अली जिन्ना को पाकिस्तान के संस्थापक के रूप में जाना जाता है। वे मुस्लिम लीग के नेता थे जो आगे चलकर पाकिस्तान के पहले गवर्नर जनरल बने। पाकिस्तान में, उन्हें आधिकारिक रूप से क़ायदे-आज़म यानी महान नेता और बाबा-ए-क़ौम यानी राष्ट्र पिता के नाम से नवाजा जाता है। उनके जन्म दिन पर पाकिस्तान में अवकाश रहता है।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Nitin Arora

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप