Move to Jagran APP

कांग्रेस भारतीय संस्कृति से इतनी 'नफरत' क्यों करती है? सेंगोल विवाद पर अमित शाह ने तंज कसते हुए पूछा सवाल

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने संसद भवन के उद्घाटन और उसमें रखे जाने वाले सेंगोल पर हुए विवाद के बाद कांग्रेस पर तंज कसा है। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी भारतीय परंपराओं और संस्कृति से नफरत करती है।

By AgencyEdited By: Mahen KhannaPublished: Fri, 26 May 2023 02:17 PM (IST)Updated: Fri, 26 May 2023 02:17 PM (IST)
Amit Shah taunt on congress शाह का कांग्रेस पर हमला।

नई दिल्ली, एजेंसी। New Parliament Building नए संसद भवन के उद्घाटन और उसमें रखे जाने वाले सेंगोल पर हुए विवाद के बाद आज केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा है। नए संसद भवन में स्पीकर की कुर्सी के पास स्थापित होने वाले सेंगोल को लेकर भाजपा के दावे को कांग्रेस ने फर्जी बताया था, जिसपर अब शाह ने तंज कसा है।

शाह बोले- भारतीय संस्कृति से नफरत करती है कांग्रेस

शाह ने आज नए संसद को लेकर हो रहे विवाद पर कहा कि कांग्रेस पार्टी भारतीय परंपराओं और संस्कृति से इतनी नफरत करती है। उन्होंने कहा कि भारत की स्वतंत्रता के प्रतीक के रूप में तमिलनाडु के एक पवित्र शैव मठ द्वारा पंडित नेहरू को एक सेंगोल दिया गया था, लेकिन कांग्रेस ने इसे 'छड़ी' के रूप में एक संग्रहालय में भेज दिया।

शाह ने कहा, "अब, कांग्रेस ने एक और शर्मनाक हरकत की है। पवित्र शैव मठ, थिरुववदुथुराई अधीनम ने खुद भारत की आजादी के समय सेंगोल के महत्व के बारे में बात की थी।" कांग्रेस "अधिनम के इतिहास को बोगस बता रही है! कांग्रेस को उनके व्यवहार पर विचार करने की आवश्यकता है"।

कांग्रेस ने सेंगोल पर दावे को बताया फर्जी

इससे पहले कांग्रेस नेता जयराम रमेश ने शुक्रवार को दावा किया कि लॉर्ड माउंटबेटन, सी राजगोपालाचारी और जवाहरलाल नेहरू द्वारा सेंगोल को अंग्रेजों द्वारा भारत में सत्ता हस्तांतरण के प्रतीक के रूप में वर्णित करने का कोई दस्तावेजी साक्ष्य नहीं है।

रविवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नए संसद भवन का उद्घाटन किए जाने के बाद सेंगोल को लोकसभा अध्यक्ष की कुर्सी के पास स्थापित किया जाएगा। कांग्रेस सहित 21 विपक्षी दलों द्वारा इस कार्यक्रम का बहिष्कार किया जा रहा है।

नए संसद भवन के उद्घाटन को लेकर सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों के बीच वाकयुद्ध के बीच, शाह ने कहा कि कांग्रेस को अपने व्यवहार पर "चिंतन" करने की आवश्यकता है क्योंकि उन्होंने पार्टी के इस दावे का खंडन किया कि सेंगोल के 1947 में अंग्रेजों द्वारा भारत को सत्ता का हस्तांतरण करने का प्रतीक होने का कोई सबूत नहीं था।


This website uses cookies or similar technologies to enhance your browsing experience and provide personalized recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.