नई दिल्ली, पीटीआइ। भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने पिछले कुछ सालों में दुनियाभर में देश का नाम रोशन किया है। ओलिंपिक में मेडल जीतने हो या फिर वर्ल्ड चैंपियनशिप का खिताब हासिल करना, भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ियों ने अपना परचम लहराया है। सीनियर खिलाड़ियों के दमदार प्रदर्शन के बाद जूनियर खिलाड़ियों ने भी देश को खुशी से झूमने का मौका दिया है। तस्नीम मीर ने जूनियर वर्ल्ड रैंकिंग में नंबर एक के स्थान पर कब्जा जमाते हुए भारत का नाम रोशन किया है। वह इस मुकाम तक पहुंचने वाले पहली भारतीय जूनियर खिलाड़ी बन गई हैं। 

युवा बैडमिंटन खिलाड़ी तस्नीम मीर बुधवार को ताजा बीडब्ल्यूएफ जूनियर रैंकिंग के अंडर-19 बालिका सिंगल्स वर्ग में शीर्ष स्थान हासिल करने वाली पहली भारतीय बन गई। गुजरात की 16 साल की तस्नीम को पिछले साल शानदार प्रदर्शन का फायदा मिला जिसमें उन्होंने तीन जूनियर अंतरराष्ट्रीय टूर्नामेंट जीते थे जिससे वह तीन पायदान के फायदे से जूनियर विश्व रैंकिंग में शीर्ष स्थान हासिल करने में सफल रहीं।

आज इन तीन धुरंधरों पर नजर, एक के लिए आखिरी हो सकता है साउथ अफ्रीका दौरा

तस्नीम ने कहा, 'मैं यह नहीं कह सकती कि मुझे इसकी उम्मीद थी। मैंने सोचा कि मैं नंबर एक नहीं बनूंगी क्योंकि टूर्नामेंट कोविड-19 से प्रभावित हो रहे थे लेकिन मैंने बुल्गारिया, फ्रांस और बेल्जियम में तीन टूर्नामेंट जीते थे। इसलिए मैं दुनिया की नंबर एक खिलाड़ी बनकर काफी खुश और रोमांचित हूं।'

यह उपलब्धि किसी भी भारतीय जूनियर महिला खिलाड़ी ने हासिल नहीं की थी जिसमें दो बार की ओलिंपिक पदक विजेता पीवी सिंधू और लंदन ओलिंपिक की कांस्य पदक विजेता साइना नेहवाल भी ऐसा नहीं कर सकीं। लड़कों के सिंगल्स वर्ग में लक्ष्य सेन, सिरिल वर्मा और आदित्य जोशी नंबर एक खिलाड़ी बने थे।

Edited By: Viplove Kumar