बुडापेस्ट, एजेंसियां। भारत की पहलवान प्रिया मलिक ने रविवार को विश्व कैडेट कुश्ती चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता। मलिक ने केन्सिया पटापोविच को 5-0 से हराया और इसके परिणामस्वरूप, उन्होंने हंगरी में विश्व कैडेट चैंपियनशिप में स्वर्ण पदक जीता। प्रिया मलिक ने महिलाओं के 73 किग्रा भार वर्ग में जीत हासिल की है और देश को खुश होने का एक और मौका दिया है। इससे पहले शनिवार को भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने टोक्यो ओलिंपिक में रजत पदक जीता।

बता दें कि प्रिया मलिक ने अपना शानदार प्रदर्शन जारी रखा है। इससे पहले उन्होंने पुणे में खेलो इंडिया के 2019 संस्करण में भी स्वर्ण पदक जीता था और फिर उन्होंने दिल्ली में आयोजित 17 वें स्कूल खेलों में स्वर्ण पदक जीता था। उन्होंने पटना में राष्ट्रीय कैडेट चैंपियनशिप के साथ-साथ राष्ट्रीय स्कूल खेलों में क्रमशः दो स्वर्ण पदक जीते हैं और अपने करियर में एक लंबा रास्ता तय करने का कौशल दिखाया है।

इससे एक दिन पहले जापान में चल रहे टोक्यो ओलिंपिक में शनिवार को दूसरे और पदक मुकाबलों के पहले दिन भारतीय भारोत्तोलक मीराबाई चानू ने सिल्वर जीतकर देश को पहला रजत पदक दिलाया। ओलिंपिक इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है कि पदक मुकाबलों के पहले ही दिन भारत का खाता खुल गया। भारत का नाम पदक तालिका में कुछ देर तक दूसरे स्थान पर भी रहा।  49 किग्रा भार वर्ग में मीराबाई ने 202 (87 किग्रा + 115 किग्रा) किग्रा का कुल वजन उठाने के साथ दूसरा स्थान हासिल किया। स्नैच में मीराबाई ने दूसरे प्रयास में 87 और क्लीन एंड जर्क में 115 किलो वजन उठाया।

बता दें कि 21 साल बाद मीराबाई ने भारत को भारोत्ताेलन में पदक दिलाया है। इससे पहले 2000 सिडनी ओलिंपिक में कर्णम मल्लेश्वरी ने कांस्य पदक जीता था। मीराबाई चानू भारत को भारोत्ताेलन में रजत पदक दिलाने वाली पहली महिला हैं, जबकि ओलिंपिक की किसी व्यक्तिगत स्पर्धा में पीवी सिंधू (2016 रजत पदक बैडमिंटन) के बाद रजत पदक दिलाने वाली दूसरी भारतीय महिला खिलाड़ी।

Edited By: Tanisk

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट