एकातेरिनबर्ग (रूस), प्रेट्र। Amit Panghal vs Shakhobidin Zoirov WBC 2019 final bout: भारतीय मुक्केबाज अमित पंघाल का पुरुष विश्व चैंपियनशिप में शानदार सफर रजत पदक के साथ समाप्त हुआ। 52 किग्रा भारवर्ग केफाइनल में अमित को ओलंपिक चैंपियन उज्बेकिस्तान के शाखोबिदिन जोइरोव से 0-5 से हार मिली। स्कोरलाइन को देखकर भले ही लग रहा हो कि इस मुक्केबाज को करारी हार मिली लेकिन मैच देखने वालों को पता है कि उन्होंने बहुत तगड़ी चुनौती पेश की।

दूसरे वरीय पंघाल इस तरह विश्व चैंपियनशिप में रजत पदक जीतने वाले पहले भारतीय मुक्केबाज बन गए और भारत ने इस बार विश्व मुक्केबाजी चैंपियनशिप में दो पदक जीतकर अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन भी किया। इससे पहले मनीष कौशिक (63 किग्रा) ने कांस्य पदक हासिल किया था। अगर फाइनल मुकाबले की बात करें तो पंघाल ने अपने से लंबे और ताकतवर प्रतिद्वंद्वी के खिलाफ सर्वश्रेष्ठ प्रयास किया लेकिन उनके पंच सीधे संपर्क में नहीं आ सके जिससे उनकी हार पक्की हो गई।

पंघाल ने शुरुआत में रक्षात्मक खेल दिखाया और बाद में आक्रामक हुए जो उनकी हार का एक अहम कारण रहा। एशियन गेम्स और एशियन चैंपियनपिशप के स्वर्ण पदकधारी मुक्केबाज की यह ऐतिहासिक उपलब्धि है। भारत ने इससे पहले कभी भी विश्व चैंपियनशिप के एक चरण में एक से ज्यादा कांस्य पदक हासिल नहीं किए थे।

इससे पहले भारत के लिए विजेंदर सिंह (2009), विकास कृष्ण (2011), शिव थापा (2015) और गौरव बिधूड़ी (2017) ने विश्व चैंपियनशिप में कांस्य पदक हासिल किए थे। रोहतक के पंघाल ने इस साल बुल्गारिया में प्रतिष्ठित स्ट्रांडजा मेमोरियल में स्वर्ण पदक जीता था और फिर वह 2018 में एशियन चैंपियन बने। उन्होंने 49 किग्रा भार वर्ग के ओलंपिक कार्यक्रम से हटने के बाद 52 किग्रा में खेलने का फैसला किया।

 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप