राउरकेला, जेएनएन। कांफेडरेशन ऑफ आल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) की ओर से अमेजन एवं फ्लिपकार्ट द्वारा ई-कॉमर्स एवं रिटेल बाजार को विकृत करने के खिलाफ चलाए जा रहे देशव्यापी अभियान में राउरकेला चैंबर भी शामिल हो गया है। सोमवार को राउरकेला के आंबेडकर चौक पर प्रदर्शन करने के साथ एडीएम के जरिए मुख्यमंत्री को ज्ञापन भेजा गया।

कैट के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बृज मोहन अग्रवाल तथा राउरकेला चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री के अध्यक्ष प्रवीण गर्ग ने इस मुद्दे पर सभी राजनीतिक दलों की चुप्पी की तीखी आलोचना की और कहा कि देश के 7 करोड़ व्यापारियों और उनसे जुड़े लगभग 40 करोड़ लोगों की रोजी रोटी पर अब खतरे में है। उन्होंने ई- कॉमर्स व्यापार में अमेजन एवं फ्लिपकार्ट के अनैतिक व्यापार को एक आर्थिक महामारी बताते हुए कहा की यदि न कंपनियों को अपनी मनमानी से नहीं रोका गया तो भविष्य में और विदेशी कंपनियां भारत में व्यापार करने आएंगी। इसी तरह से सरकार की नीति एवं कानून को धता बताते हुए देश के रिटेल व्यापार को अपनी मर्जी से चलाएंगी और 45 लाख करोड़ रुपये के भारत के रिटेल बाजार पर एकाधिकार स्थापित करते हुए कब्जा करेंगी। उन्होंने कहा की अमेजन एवं फ्लिपकार्ट ईस्ट इंडिया कंपनी का दूसरा संस्करण बनने की कोशिश कर रही हैं जिसे रोका जाना बेहद जरूरी है।

कैट ने सरकार से आग्रह किया है की इस मामले पर तुरंत कार्रवाई की जाए और देश के रिटेल बाजार और ई कॉमर्स को इन दोनों कंपनियों का बंधक बनने से सका जाए। प्रदर्शन में चैंबर के उपाध्यक्ष विष्णु दयाल अग्रवाल, महासचिव राजेश गर्ग, जनसंपर्क सचिव प्रवीण जैन, ट्रेड कोर्स सचिव नितैश जैन, अमित बंका, संजय पोद्दार, देवांश अग्रवाल, विशाल वोरा, मोहित कयाल, विष्णु अग्रवाल, विनोद मोदी, संजय पोद्दार, तथा मोबाइल एवं इलेक्ट्रॉनिक्स ट्रेड से जुड़े पवन महतो, अमित महापात्र , दविंदर सिंह, प्रशांत महाराणा, चन्दन झा, नारायण पति, पियूष सिंह, सरोज साहू, शशांक डे, राजू सोनी, संजय कुमार, अलोक माहि, सुखविंदर सिंह, कंप्यूटर ट्रेड के प्रवीण आदि शामिल थे।

बच्चों को 10 मिनट में बेड टच और गुड टच के प्रति जागरुक करेगी कोमल

 32 अंगुलियों वाली महिला की कहानी: डायन का ताना सुन घर छोडऩे को हुई मजबूर

 

Posted By: Babita kashyap

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस