संवाद सहयोगी, झारसुगुड़ा : बेलपहाड़ स्थित गांधीनगर के एक दैनिक मजदूर के घरवालों ने कौन बनेगा करोड़पति (केबीसी) जैकपॉट (लॉटरी) निकलने के नाम पर अपनी गाढ़ी कमाई से 1.69 लाख रुपये खो दिए हैं। पीड़िता 26 वर्षीय नीता छतर ने इस संबंध में बेलपहाड़ पुलिस में शिकायत दर्ज कराई है। जिसके बाद मंगलवार शाम मामला दर्ज किया गया।

सूत्रों ने बताया कि 23 फरवरी को शक्ति छतर की बेटी नीता को एक अज्ञात नंबर से सूचना मिली कि उसके नंबर को केबीसी द्वारा आयोजित लकी ड्रॉ के लिए चुना गया है और उसने 35 लाख रुपये जीते हैं। अगले दिन, उसने उसी व्यक्ति से एक और कॉल प्राप्त किया, जिसमें कहा गया था कि लॉटरी की राशि उसके बैंक खाते में भेजी जाएगी जिसके लिए उसे एक निर्दिष्ट खाता संख्या में 18,200 रुपये जमा करने होंगे। यह सोचकर कि उसने जैकपॉट जीता है, नीता और उसके परिवार के सदस्यों ने बेलपहाड़ से एक मनी ट्रांसफर के जरिए उक्त खाते में 18,200 रुपये जमा किए।

जालसाज ने फिर से नीता को फोन किया और उसे उसके वॉट्सऐप नंबर पर 35 लाख रुपये के चेक की कॉपी भेजने के बाद 35,000 रुपये, 31,000 रुपये और 5,000 रुपये तीन किस्तों में जमा करने को कहा। जालसाज ने यह भी बताया कि मूल चेक 25 फरवरी तक नीता को भेज दिया जाएगा। लेकिन इससे पहले, उसे दो किश्तों में 40,000 रुपये जमा करने होंगे, जिसका नीता ने पालन किया, लेकिन कई दिनों के इंतजार के बाद भी न तो चेक और न ही लॉटरी की रकम नीता के पास पहुंची।

उसे शक तब हुआ, जब 26 फरवरी को जालसाज ने उसे केबीसी में काम करने वाले एक व्यक्ति के ट्रैवल खर्च के लिए 65,000 रुपये जमा करने के लिए कहा, ताकि वह दुबई से चेक ला सके। फिर उसने स्थानीय पुलिस में मामले की रिपोर्ट करने का फैसला किया। नीता ने पुलिस से अनुरोध किया कि वह उस पैसे को वसूलने में मदद करे, जो उसके परिवार की पूरी बचत थी। अनुमंडल पुलिस अधिकारी (एसडीपीओ), ब्रजराजनगर ने कहा कि पीड़िता की शिकायत के आधार पर मामला दर्ज किया गया है और जांच की जारी है।

Indian T20 League

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

kumbh-mela-2021