अनुगुल, जागरण संवाददाता। ओडिशा के गंजाम जिले में चार साल के एक बच्चे की मौत के मामले पुलिस ने हैरान कर देने वाला खुलासा किया है। चार साल के बच्चे के साथ दरिंदगी के बाद उसकी हत्या की गई थी। पुलिस ने बुधवार को इंजीनियरिंग के 22 वर्षीय एक छात्र को गिरफ्तार किया है। मासूम मंगलवार को अपने पड़ोसी के घर की छत पर खून से लथपथ मिला था। आरोपित छात्र ने हैवानियत के बाद बच्चे का सिर लोहे के दरवाजे से फोड़कर फरार हो गया था।

एक पुलिस अधिकारी ने बताया कि प्रारंभिक जांच के अनुसार, इंजीनियरिंग के छात्र ने लड़के का यौन शोषण किया और गिरफ्तारी के डर से निर्माणाधीन मकान के लोहे के दरवाजे से लड़के का सिर फोड़ दिया था ।एसडीपीओ उमा शंकर सिंह ने बताया कि घटना के बाद आरोपित युवक फरार हो गया था। उसे अस्का के पास से गिरफ्तार कर लिया गया।

पुलिस ने बताया कि पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद ही मौत के सही कारणों का पता चल पाएगा। घटना का पता तब चला जब मृतक के माता-पिता ने लड़के को घर में काफी देर तक नहीं पाया और बाद में खोजने के दौरान पड़ोसी के घर की छत पर बच्चा खून से लथपथ मिला।

आनन-फानन में बच्चे को धारकोट के सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां चिकित्सक ने उसे मृत घोषित कर दिया। इस बीच, मानवाधिकार कार्यकर्ता रवींद्र मिश्रा ने राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) से राज्य सरकार को आरोपियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई करने और मृतक के माता-पिता को 20 लाख रुपये का मुआवजा देने का निर्देश देने की अपील की है ।

Edited By: Aditi Choudhary

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट