भुवनेश्वर, जागरण संवाददाता। ओडिशा राज्य में चल रही विभिन्न रेल परियोजनाओं को शीघ्र पूरा करने के लिए केन्द्र सरकार ने इस वर्ष के बजट में कुल 6995.58 करोड़ रुपये का आवंटन किया है। राशि के आवंटन में इस बात का ख्याल रखा गया है कि धन की कमी के कारण विकास कार्यों की गति प्रभावित न हो। यात्री सुविधा, रोड ओवर ब्रिज, रोड अंडर ब्रिज, सीमित उंचाई के उपमार्ग से संबंधित सड़क संरक्षा कार्य मदों में बजट राशि में उल्लेखनीय वृद्धि की गयी है। खुर्दा-बलांगीर रेल परियोजना के कार्य को और गति प्रदान करने के लिए इस वर्ष 1000.50 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। यह राशि गत वर्ष के 520 करोड़ के आवंटन से 92.4 प्रतिशत अधिक है।

 दोहरीकरण परियोजनाओं विशेष रूप से बांसपानी-दैतारी-टमका-जखपुरा के लिए गत वर्ष के 80 करोड़ की तुलना में 228 करोड़ रुपये (185 प्रतिशत की वृद्धि) का आवंटन किया गया है। इसके साथ ही ब्रुंदामल-झारसुगुड़ा फ्लाईओवर के लिए 20 करोड़, भद्रक-निर्गुणडी तीसरी लाइन के लिए 229 करोड़, बुढापंक-सालगांव के लिए 215 करोड़, राउरकेला-झारसुगुड़ा तीसरी लाइन के लिए 230 करोड़, नारायणगड़-भद्रक तीसरी लाइन के लिए 225 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है।

 ओडिशा राज्य में यात्री सुविधाओं से संबंधित कार्यों के लिए जहां गत वर्ष 129 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया था, वहां इस वर्ष इस मद में 429 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। समपार फाटकों को समाप्त करने के लिए भी 400 करोड़ रुपये का आवंटन इस वर्ष किया गया है।

वर्ष 2021.22 में ओडिशा में आधारभूत संरचना व संरक्षा संबंधी कार्यों के लिए 5528 करोड़ रुपये का आवंटन किया गया है। इसके अलावा कंप्यूटराइजेशन, रॉलिंग स्टॉक, लीज मद, विद्युतीकरण, यात्री सुविधा, कारखाने, कर्मचारी कल्याण आदि मदों में आवंटित की गयी राशि को शामिल करने पर ओडिशा की रेल परियोजनाओं के लिए बजट में कुल 6995.58 करोड़ रुपये का आवंटन हुआ है।