काठमांडू। नेपाल में मंगल दोपहर से लेकर अब तक 16 झटके लग चुके हैं। जानकारी के मुताबिक बीती रात भी नेपाल में भूकंप के दो झटके महसूस किये गए। आलम ये है कि कल रात भी नेपाल के लोगों ने घर से बाहर सड़कों पर बिताई।

भूकंप के झटकों से पूरा नेपाल हिल गया है। नेपाल में मंगलवार-बुधवार रात को भी दो झटके आए। पहला झटका 2 बजकर 55 मिनट पर महसूस किया। रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 4.2 मापी गई। इस भूकंप का केंद्र काठमांडू था। दूसरा झटका रात 3.15 मिनट पर महसूस किया गया। हालाकि इन झटकों से किसी तरह के जानमाल के नुकसान की खबर नहीं मिली है।

इससे पहले कल नेपाल और उत्तर भारत के अधिकतर राज्यों में आए 7.3 तीव्रता वाले भूकंप के झटकों में नेपाल में 65 लोगों की मौत हो गई थी और हजारों लोग घायल हो गए थे। इसके अलावा दोनों देशों में भारी संपत्ति का नुकसान हुआ था।

अमेरिकी सेना का हेलीकॉप्टर लापता

नेपाल में भूकंप पीड़ितों के लिए खाद्य सामग्री ले जा रहा अमेरिकी सेना का एक हेलीकॉप्टर आज लापता हो गया। हेलीकॉप्टर में छह विदेशी सैनिक और दो नेपाली सैनिक सवार थे। अमेरिकी सेना के एक कर्नल स्टीव वॉरेन ने कहा कि हेलीकॉप्टर के लापता होने से पहले अमेरिकी सेना के चालक दल द्वारा ईंधन की समस्या पर बात करते हुए सुना गया था, जिसके बाद अमेरिकी सेना के अधिकारियों का हेलीकॉप्टर से संपर्क टूट गया।

उन्होंने कहा कि तीन सैन्यकर्मियों ने वी-22 रोटर विमान की मदद से 90 मिनट तक हेलीकॉप्टर की खोज की, लेकिन उसका पता नहीं चल पाया, जिसके बाद खोज का काम रोक दिया गया। नेपाली सैनिकों द्वारा जमीन पर हेलीकॉप्टर के मलबे की खोज जारी है। हेलीकॉप्टर पिछले महीने आए 7.9 तीव्रता वाले भूकंप के बाद राहत अभियान में भाग ले रहा था।

सेना के मेजर डेव एस्टबर्न ने कहा कि हेलीकॉप्टर अमेरिका और नेपाली सुरक्षा बलों के साथ राहत सामग्री लेकर जा रहा था, तभी चारिकोट के पास लापता हो गया।


गौरतलब है कि मंगलवार दोपहर नेपाल में सवा घंटे में एक के बाद एक छह छोटे-बड़े भूकंप के झटके महसूस किए गए थे। नेपाल में भूकंप से मरने वालों की संख्या 65 हो गई है जबकि करीब हजार से ज्यादा लोग घायल हो गए हैं। वहीं बिहार में भी भूकंप से 42 लोगों की मौत हो गई है।

नेपाल भूकंप से संबंधित फोटो देखने के लिए यहां क्िलक करें

ये भी पढ़ेंः भूकंप से फिर तबाही, नेपाल में 57, भारत में 50 की मौत

ये भी पढ़ेंः अभी हिलेगा हिमालय और डोलेगी धरती, ऊर्जा अंदर दबी

Posted By: anand raj

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस