जागरण संवाददाता, नई दिल्ली। मंगोलपुरी में रिंकू शर्मा हत्या मामला दिल्ली पुलिस की क्राइम ब्रांच के सुपूर्द होते ही अधिकारियों ने सक्रियता बढ़ा दी है। पुलिस जांच जल्द पूरा करना चाहती है। लिहाजा मैनुअली के अलावा फारेंसिक व तकनीकी कोणों से मामले की छानबीन शुरू कर दी गई है। इसमें जल्द और लोगों की गिरफ्तारी हो सकती है।

क्राइम ब्रांच ने हत्याकांड के पांच आरोपित सहित 10 लोगों का काल डिटेल रिकार्ड (सीडीआर) निकलवाया है। इसके आधार पर पुलिस अब यह देखेगी की घटना के वक्त वे कहां थे। यही नहीं जिन फोन नंबर पर वे ज्यादा फोन करते थे अथवा जिस नंबर से उनके पास फोन अता था उसकी भी जांच की जाएगी। जिससे यह पता चल सकेगा कि इस साजिश में कोई और भी तो शामिल नहीं है। 

10 फरवरी को मंगोलपुरी स्थित घर में रिंकू शर्मा की चाकू से गोदकर हत्या कर दी गई थी। इस मामले में स्थानीय पुलिस पड़ोस में रहने वाले पांच आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है। दोनों पक्षों के बीच आरोप-प्रत्यारोप लग रहे हैं। वहीं, मामला राजनीतिक रूप लेता जा रहा है। जिसके मद्देनजर इसकी जांच स्थानीय पुलिस के हटाकर क्राइम ब्रांच को सौपी गई है।

क्राइम ब्रांच को एक महीने में चार्जशीट दाखिल करने के निर्देश दिए गए हैं। रिंकू के परिजनों का आरोप है कि वह गत पांच अगस्त को राम मंदिर निर्माण के लिए निकाली गई रैली में शामिल हुए थे। जिसके कारण आरोपित उनसे दुश्मनी निकालना चाहते थे। इसी रंजिश में रिंकू की हत्या कर दी गई। 

जबकि पुलिस की माने तो उसकी जन्मदिन पार्टी में रेस्टोरेंट में हमला करने वालों से झगड़ा हुआ था। मामला संवेदनशील होने के कारण क्राइम ब्रांच घटना स्थल से मिले तमाम साक्ष्यों का विश्लेषण करने के साथ ही तकनीकी जांच का सहारा ले रही है। पुलिस के वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रिंकू शर्मा के पांच हत्यारोपित सहित 10 लोगों का सीडीआर निकाला गया है। उसकी गहनता से जांच की जा रही है।

यह देखा जा रहा है कि वारदात के वक्त आरोपितों के अलावा अन्य की लोकेशन कहां-कहां थी। वहीं, सभी के फोन के तमाम नंबरों की भी जांच की जा रही है। ताकि साजिश में शामिल अन्य की पहचान कर उन्हें भी जल्द गिरफ्तार किया जा सके।  

Edited By: Vinay Kumar Tiwari