संयुक्त राष्ट्र। संयुक्त राष्ट्र महासभा में नियंत्रण रेखा पर गोलाबारी का मामला उठाए जाने पर भारत ने पाकिस्तान को करारा जवाब दिया है। भारत ने स्पष्ट कर दिया है कि देश की सेना किसी तरह के हमले का जवाब देने के लिए पूरी तरह तैयार है।

मंगलवार को पाकिस्तान के स्थायी प्रतिनिधि मसूद खान ने महासभा की पूर्ण बैठक के दौरान सीमा रेखा पर दोनों ओर से हो रही गोलाबारी का मुद्दा उठाया। उन्होंने भारत पर आरोप लगाया कि उसकी गोलाबारी से ईद-उल-अजहा के मौके पर चार निर्दोष पाकिस्तानी मारे गए। उन्होंने भारतीय सरकार से तत्काल युद्धविराम लागू करने की अपील की।

इस पर अपने जवाब में भारत के वरिष्ठ राजनयिक देवेश उत्तम ने कहा कि भारतीय सेना हर हमले का जवाब देगी। उन्होंने यह भी कहा कि संबंधों को सामान्य बनाने की जिम्मेदारी पाकिस्तान की है।

इस बीच, संयुक्त राष्ट्र महासचिव बान की मून ने भारत-पाक से अपने मुद्दे कूटनीति और बातचीत के जरिए सुलझाने को कहा है। मून के प्रवक्ता स्टीफन डुजारिक ने दोनों देशों के बीच शांति स्थापित करने में यूएन महासचिव की संभावित भूमिका के सवाल के जवाब में यह बात कही।

भारत ने कहा, प्रासंगिकता खत्म:

पाक द्वारा यूएन में कश्मीर मामला उठाने पर भारतीय विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता सैयद अकबरुद्दीन ने कहा कि संयुक्त राष्ट्र सैन्य पर्यवेक्षक समूह अपनी प्रासंगिकता खो चुका है। उन्होंने कहा कि भारत-पाक सीमा विवाद 1972 में हुए शिमला समझौते के अनुसार द्विपक्षीय मामला है।

संबंधित खबरों के लिए यहां क्लिक करें

पढ़ें: पाकिस्तान की बौखलाहट पर हमारे रक्षामंत्री ने क्या कहा

Edited By: manoj yadav