श्रीनगर, राज्य ब्यूरो। हिजबुल मुजाहिदीन कश्मीर का सबसे बड़ा आतंकी संगठन इस समय मुश्किल दौर से गुजर रहा है। हिज्ब के सरगना सलाहुद्दीन व उसकी आका पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आइएसआइ के लिए कश्मीर में नाइकू का उत्तराधिकारी तय करना मुश्किल हो रहा है।

दक्षिण कश्मीर में हिज्ब का अगला कमांडर

सूत्रों के अनुसार, सैफुल्ला मीर उर्फ डॉ. सैफ या फिर जुनैद अम्मार को कश्मीर का अगला कमांडर बनाया जा सकता है। नाइकू करीब पौने तीन साल तक दक्षिण कश्मीर में हिज्ब की कमान को संभाले रखा। उसने हिज्ब के लिए नए कैडर तैयार करने के अलावा पाक के मंसूबों के अनुरूप कश्मीर में आतंकी साजिशों को अंजाम दिया। साल 2012 में आतंकी बना नाइकू गत बुधवार को मारा गया है।

आतंकी हिंसा पर नजर रखने वालों के मुताबिक, वर्ष 2007-08 के दौरान और उससे पहले भी एक बार हिज्ब के लिए कश्मीर में कोई प्रभावशाली कमांडर नियुक्त करना मुश्किल हो रहा। हिज्ब का कोई स्थानीय कमांडर कमान लेने की स्थिति में नहीं था। उस समय सरहद पार बैठे कमांडरों को इस तरफ भेजा था। वे भी बड़ी मुश्किल से राजी हुए थे।

किसी पुराने कमांडर पर यकीन नहीं :

कश्मीर विशेषज्ञों के मुताबिक, मौजूदा परिस्थितियों में हिज्ब के अधिकांश आतंकी पाकिस्तान बैठे आकाओं के इशारे पर चलने को तरजीह नहीं देते हैं। ऐसा कोई पुराना कमांडर कश्मीर में भी नहीं है,जिस पर हिज्ब को पूरा यकीन हो। सिर्फ सैफुल्ला मीर उर्फ डॉ. सैफ ही वर्ष 2014 से सक्रिय है। ए श्रेणी के सैफुल्ला पर सुरक्षा एजेंसियों ने 10 लाख का इनाम घोषित कर रखा है। मलंगपोरा पुलवामा का सैफुल्ला कुछ दिनों से सुरक्षाबलों को नजर नहीं आ रहा है।

जुनैद दो साल पहले आतंकी बना 

वह सोशल मीडिया पर भी कभी कभार ही नजर आया है। वह श्रीनगर और पुलवामा में ज्यादा प्रभाव रखता है। वह दो दर्जन नागरिक हत्याओं के अलावा सुरक्षाबलों पर हमले की विभिन्न वारदातों में पुलिस को वांछित है। सैफुल्ला के अलावा जिस दूसरे आतंकी को नाइकू का उत्तराधिकारी बनाए जाने की चर्चा है, वह जुनैद है। यह जुनैद कोई और नहीं कट्टरपंथी सईद अली शाह गिलानी के सबसे विश्वस्त मित्र मोहम्मद अशरफ सहराई का बेटा है। जुनैद दो साल पहले आतंकी बना है।

कश्मीर विश्वविद्यालय से एमबीए की डिग्री प्राप्त करने वाला जुनैद श्रीनगर और साथ सटे इलाकों में में सक्रिय है। अशरफ सहराई अलगाववादी संगठन तहरीके हुर्रियत कश्मीर के अध्यक्ष भी हैं। वह प्रतिबंधित जमात ए इस्लामी के पुराने कार्यकर्ता हैं। राज्य पुलिस के एक अधिकारी ने अपना नाम न छापे जाने की शर्त पर बताया कि उपलब्ध सूचनाओं के आधार पर सैफुल्ला मीर को नाइकू का उत्तराधिकारी बनाया गया है, लेकिन हम अपने तंत्र के जरिए इसकी पुष्टि कर रहे हैं। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप