नई दिल्ली, प्रेट्र। मौसम के पूर्वानुमान में आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस (एआइ) तकनीक के इस्तेमाल पर विचार चल रहा है। इस कदम से मौसम के संबंध में 3-6 घंटे के पूर्वानुमान को और सटीक बनाने में मदद मिलेगी।भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (आइएमडी) के महानिदेशक मृत्युंजय मोहपात्रा ने रविवार को बताया कि मौसम पूर्वानुमान के क्षेत्र में एआइ व मशीन लर्निग तकनीक दूसरे क्षेत्रों की तरह प्रचलित नहीं हैं। इस क्षेत्र के लिए ये तकनीक अपेक्षाकृत नई हैं।

आइएमडी(IMD) दूसरे संस्थानों की मदद से एक अध्ययन कराकर मौसम के पूर्वानुमान में एआइ की संभावनाओं का आंकलन करना चाहता है। फिलहाल आइएमडी अगले 3-6 घंटे के मौसम का तात्कालिक पूर्वानुमान जारी करने के लिए विभिन्न उपकरणों जैसे रडार व उपग्रह का इस्तेमाल करता है। उन्होंने कहा, 'एआइ मौसम के पिछले मॉडल को समझने में मदद करेगा, जिससे तेजी के साथ फैसले लिए जा सकेंगे।'

मोहपात्रा के अनुसार, आइएमडी खराब मौसम की घटनाओं जैसे बिजली कड़कने व धूल भरी आंधी आदि का पूर्वानुमान लगाता है। पिछले ही महीने उत्तर प्रदेश और बिहार में आकाशीय बिजली से करीब 160 लोगों की मौत हो गई थी। आइएमडी एआइ और मशीन लर्निग की मदद से वास्तविक मौसम के सटीक पूर्वानुमान की कोशिश कर रहा है।

कल से चार दिन जमकर होगी बारिश

इस बीच देश में मानसून और भारी बारिश को लेकर चेतावनी जारी की गई है। भारतीय मौसम विभाग का कहना है कि मंगलवार(चार अगस्त) से अगले तीन-चार दिनों तक देश के मध्य और पश्चिमी हिस्सों में जमकर बारिष होगी। चार अगस्त के करीब उत्तरी बंगाल की खाड़ी में हवा का दबाव कम होगा। इसीलिए मानसून थोड़ा दक्षिण की ओर रुख करेगा। ऐसा होने पर अगले तीन से चार दिनों तक बेहद तेज बारिश होगी।

मानसून के दक्षिण-पश्चिम बहाव के चलते यह अरब अरब सागर और पश्चिमी तटों पर अधिक मजबूत होगा। लिहाजा, बहुत बड़े इलाके में तीन अगस्त से पांच अगस्त के बीच तेज से अत्यधिक तेज वर्षा होगी। इस दौरान कोंकण, गोवा, मध्य महाराष्ट्र, पश्चिमी घाट के क्षेत्रों, तटीय कर्नाटक और केरल में जमकर बारिश होगी।

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस